कोरोना की तीसरी लहर से बचना होगा

कोरोना की तीसरी लहर से बचना होगा

rajesh-maheshwari-journalist
राजेश माहेश्वरी
लेखक पत्रकार

देश में कोरोना की दूसरी लहर ने बुरी तरह जकड़ रखा है। शहरों के बाद अब गावों और कस्बों से भी कोरोना संक्रमण से जुड़ी खबरें आ रही हैं, जो चिंता का बड़ा कारण है। कोरोना की दूसरी लहर का ‘पीक’ कब आएगा और कब ये शांत होगी इस बारे में भिन्न-भिन्न विचार सामने आ रहे हैं। कुल मिलाकर चिकित्सा विज्ञान और वैज्ञानिकों के पास कोई ऐसी ठोस सूचना या जानकारी नहीं, जिससे ये पता चल सके कि कोरोना पर काबू कैसे और कब तक होगा। चिकित्सक, वैज्ञानिक और शोध कर्ता इस दिशा में दिन-रात प्रयासरत हैं, लेकिन अभी तक सफलता हाथ नहीं लग पाई है। इन सब के बीच ये समाचार भी सामने आया है कि कोरोना की तीसरी लहर आना भी तय है। कोरोना की तीसरी लहर के खबर से पहले से ही चिंता में डूबे देशवासियों की परेशानी और बढ़ गई है।

प्रिय मित्रों: 
अगर आप एक अच्छे लेखक है तो आप हमें संपादकीय लिख कर या किसी भी मुद्दे से संबधित अपनी राय, सुझाव और प्रतिक्रियाएं हमारे ई-मेल पर भेज सकते हैं । अगर हमारें संपादक को अपका लेख या मुद्दा सही लगा तो हम आपके मुद्दे को अपने समाचार पत्र एवं वेबसाइटपर प्रकाशित किया जाएगा। आप अपना पूरा नाम,फोटो व स्थान का नाम जरुर लिखकर भेजें। 

तीसरी लहर की बात किसी और ने नहीं बल्कि भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के. विजय राघवन ने इस बारे में देश को आगाह किया है। उनके कथनानुसार कोरोना की तीसरी लहर आना त है। राघवन ने ‘आसार’ या ‘संभावना’ शब्द प्रयोग नहीं किये, बल्कि यह भी चेतावनी दी कि तीसरी लहर बहुत तेजी से आ सकती है और उसे टाला नहीं जा सकता। यह लहर कब आएगी, इसका निश्चित समय उन्होंने नहीं बताया। अलबत्ता विशेषज्ञ सितंबर-अक्तूबर का अनुमान लगा रहे हैं। समाचार का संचार होते ही देश में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चर्चाओं का दौर गर्म हो गया। इस बीच प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार ने अपने ताजा बयान में कहा कि सावधानी और सर्तकता से तीसरी लहर को काबू किया जा सकता है।

ऐसा नहीं है कि कि केंद्र सरकार के वैज्ञानिक सलाहकार ने ही ऐसी चेतावनी दी है या दावा किया है। राघवन के दावे से पूर्व प्रसिद्ध डाक्टर भी तीसरी लहर ही नहीं, बल्कि चैथी लहर तक के आकलन दे चुके हैं। उनके शोधात्मक निष्कर्षों पर सरकार के वैज्ञानिक विशेषज्ञ ने मुहर लगाई है, तो अब महामारी के नए दौर की अपरिहार्यता समझनी चाहिए। फिलहाल कोविड की दूसरी लहर के घातक और जानलेवा थपेड़े हम झेल रहे हैं। देश में कोरोना वायरस से मौत का सरकारी आंकड़ा 2.5 लाख पार कर चुका है। देश में कोरोना से 12 मार्च 2020 को पहली मौत दर्ज हुई थी। उसके बाद 50 हजार का आंकड़ा पार करने में 156 दिन लगे थे। लेकिन आखिरी 50 हजार लोगों की मौत में महज 13 दिन में हो गई है। पिछले कई दिनों से संक्रमितों का आंकड़ा 4 लाख का पार कर रहा है। संक्रमण का आंकड़ा दुनिया के सभी देशों से ज्यादा है।

संकट के इस दौर के बीच ही बंगलुरू के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस ने गणितीय आधार पर आकलन किया है कि 11 जून तक 4.4 लाख से ज्यादा मौतें हो सकती हैं। अभी तक मौतों का कुल आंकड़ा 2.30 लाख से अधिक है। यानी भारत में कोरोना से मौतें दुगुनी हो सकती हैं! बहरहाल अभी तो हम कोविड की दूसरी लहर के ‘पीक’ की प्रतीक्षा कर रहे हैं। हालांकि विशेषज्ञों का आकलन है कि मई के अंत में ‘पीक’ की स्थिति आ सकती है और उसके बाद संक्रमण कम होना शुरू हो सकता है, लेकिन अब विशेषज्ञ लगभग सर्वसम्मत हैं कि यह कोविड के सामुदायिक संक्रमण का ही दौर है। संक्रमण गांवों तक फैल चुका है और अब तेजी से फैलने की मुद्रा में है।

इस वक्त देश में कोरोना का घातक अनुपात 1.1 फीसदी से ऊपर है। यानी भारत में कोरोना पॉजिटिव होने वाले हर 100 लोगों में से एक से ज्यादा की मौत हो रही है। पंजाब, गुजरात, पश्चिम बंगाल के कई प्रमुख शहरों में हर 100 कोरोना संक्रमितों में से दो की मौत हो रही है। जबकि दिल्ली, मध्य प्रदेश, राजस्थान और उत्तर प्रदेश प्रदेश जैसे बड़ी आबादी प्रदेशों में सीएफआर 1 फीसदी या इससे ज्यादा है।

मेडिकल जर्नल लांसेट में छपे संपादकीय में 1 अगस्त तक भारत में कोरोना से 10 लाख मौतें होने की संभावना जताई गई है। ब्रिटेन से निकलने वाली इस प्रसिद्ध मेडिकल जर्नल में ‘इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मीट्रिक्स एंड इवेल्यूएशन’ के हवाले से आंकड़े लिए गए हैं।

इन परिस्थितियों के बीच यह बात किसी से छिपी नहीं है कि छोटे शहरों, कस्बों और गांवों में स्वास्थ्य सेवाओं के हालात किसी से छिपे नहीं है। अभी जांच व इलाज शहरों और जिला मुख्यालयों तक ही सीमित है। गांवों में कोविड की टेस्टिंग भी नगण्य है। लोग अब भी जागरूक नहीं हैं। गुजरात के साणंद में जिस तरह हजारों महिलाओं की भीड़ ने सिर पर पानी से भरा घड़ा रखकर जुलूस निकाला और उस पानी को एक मंदिर पर चढ़ाया गया। कोविड प्रोटोकॉल का जमकर उल्लंघन किया गया। वहीं उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में जिला काजी हजरत शेख अब्दुल हमीद मुहम्मद सालिमुल कादरी का इंतकाल हो गया। इसके बाद उनके जनाजे में 15-20 हजार लोग उमड़ पड़े। कोविड प्रोटोकॉल की जमकर धज्जियां उड़ाई गई।

क्या ऐसी भीड़ के रहते हुए कोरोना की तीसरी लहर को थामा जा सकता है? पंजाब में किसानों ने बिना मास्क और दो गज की दूरी बनाए किसान कानूनों पर विरोध-प्रदर्शन किया और कानूनों को कोविड से भी ज्यादा खतरनाक करार दिया, क्या ऐसी भीड़ संक्रमण को रोक सकती है? इसमें कोई दो राय नहीं है कि देश की आबादी का बड़ा हिस्सा अभी भी कोरोना को लेकर रत्ती भर भी सीरियस नहीं है। आज भी पुलिस और प्रशासन को लोगों को बिना वजह घर से न निकलने की सलाह दी जा रही है। मास्क न पहनने वालों के चालान काटे जा रह हैं। ऐसी स्थितियों में कोरोना की तीसरी, चैथी या कितनी लहरें आएंगी कोई डाक्टर या वैज्ञानिक शायद ही कभी बता पाए।

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर है। बड़ी संख्या में लोग कोरोना से संक्रमित हो रहे हैं। ऐसे में कोरोना के नये नये वेरिएंट्स ने चिंता बढ़ा दी है। दरअसल, एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में मिला कोरोना वेरिएंट काफी संक्रमण फैला रहा है। कोरोना के इस वेरिएंट को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन चिंतित है। इस मामले में कुछ वैज्ञानिकों का कहना है यह वेरिएंट काफी खतरनाक और तेजी से संक्रमण फैला सकता है। यह भी देवा है कि यह कोरोना वैक्सीन को भी बेअसर कर सकता है। जिस तरह से दूसरी लहर ने तांडव मचा रखा है, ऐसे में तीसरी लहर के बारे में सोचकर भी रूह कांप जाती है।

America Covid19

ऐसे में सवाल यह है कि क्या तीसरी लहर मौजूदा लहर से ज्यादा प्रचंड और जानलेवा साबित होगी? एक विकल्प धुंधला-सा दिखाई देता है कि तीसरी लहर आने से पहले ही हम अधिकतम लोगों में टीकाकरण करें। लेकिन टीकों की भी भारी कमी है। वहीं इतनी बड़ी आबादी को टीका लगाने में काफी समय लगेगा। ऐसे में क्या विकल्प हमारे पास बचते हैं। देश के हर नागरिक को इस संकट काल में सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर चलना होगा। पुलिस और प्रशासन के निर्देशों का गंभीरता से पालन करना होगा। बिना जरूरी काम के घर से बाहर नहीं निकलना। मास्क पहनना, सैनिटाइजर का प्रयोग करना और सामाजिक दूरी का पालन सख्ती से करना होगा। वही केंद्र और राज्य सरकारों की जिम्मेदारी बनती है कि वो जरूरतमंदों के भोजन, इलाज एवं आवास का प्रबंध सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर करे। नागरिकों की जीवन रक्षा राज्य की जिम्मेदारी में शामिल है।

-लेखक राज्य मुख्यालय पर मान्यता प्राप्त स्वतंत्र पत्रकार हैं।

(डिस्क्लेमर : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *