ADS (6)
ADS (5)
ADS (4)
ADS (3)
ADS (2)
previous arrow
next arrow
 
ADS (6)
ADS (5)
ADS (4)
ADS (3)
ADS (2)
previous arrow
next arrow
Shadow

गर्व है हमें अपनी भारतीय महिला हॉकी टीम पर, ओलंपिक में रचा इतिहास

Indian Female Hockey Team

Olympic Games Tokyo 2020: 60 मिनट के खेल ने 41 साल के गम को हल्का कर दिया। भारतीय महिला हॉकी टीम पहली बार सेमीफाइनल में पहुंची है। इतिहास में पहली बार। और वो भी दिग्गज ऑस्ट्रेलिया को हराकर।

ऑस्ट्रेलिया को ऐसी टीम माना जाता है जो विपक्षी खेमे में घुसकर खेलती है। ग्रुप स्टेज में उसने अपना दबदबा यूं ही दिखाया। उसने कोई मैच नहीं गंवाया। आज के मुकाबले से पहले उसने सिर्फ एक गोल किया था। उन्हें अपने खेल पर यकीन था और हमें अपने जज्बे पर।

खेल जगत की पूरी विस्तार से खबरें पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे

भारतीय महिला टीम की खिलाड़ियां आपस में सिर्फ गले नहीं मिल रही है बल्कि हर उस शख्स को जवाब दे रही हैं जिसने उन्हें कमतर आंका था। जिसने कहा था कि इस टीम से ज्यादा उम्मीदें नहीं। एक के बाद एक शुरुआती तीन मैच हारने के बाद ऐसी आवाजें बुलंद होती गईं। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। लगी रहीं और जुटी रहीं। यह वाकई इस टीम का ‘चक दे’ मूवमेंट है।

ऑस्ट्रेलियाई टीम ने जब दूसरे क्वॉर्टर में गोल खाया तब भी उसे लग रहा था कि वापसी कर सकता है। एक नहीं, दो नहीं बल्कि तीन-चार गोल के साथ। आखिर यही ऑस्ट्रेलियाई अंदाज है। पर हमारे साथ थी हिम्मत। टीम ने ग्रुप स्टेज पर शुरुआत तीन हार के साथ की। इसके बाद लगने लगा कि अब आगे का रास्ता लगभग बंद है, लेकिन टीम ने लगातार दो मैच जीते। आखिरी मैच तो साउथ अफ्रीका के खिलाफ आखिरी मिनटों में गोल करके अपने नाम किया। इसके बाद किस्मत का साथ चाहिए था। आयरलैंड और ग्रेट ब्रिटेन के मुकाबले पर भारत का भविष्य टिका था। यहां भी पासा सही पड़ा। टीम अंतिम आठ में पहुंची। और फिर क्वॉर्टर फाइनल में उसने तीन बार की चैंपियन कंगारू टीम को मात दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *