ग्रामीण आजीविका मिशन अन्तर्गत 22 फरवरी से 03 मार्च तक

ग्रामीण आजीविका मिशन अन्तर्गत 22 फरवरी से 03 मार्च तक

  • मेला में आगंतुकों की हो रही है भारी भीड़
  • कालीन, टेराकोटा, आचार, मुरब्बा, अगरबत्ती, फ्लावर पाट, सीनरी, आर्टिफिसियल ज्वेलरी, बासं के उत्पाद, घरेलू सजावटी उत्पाद तथा जूते-चप्पल मेला के हैं मुख्य आकर्षण

महेश पाण्डेय ब्यूरो चीफ

वाराणसी: दीनदयाल अन्त्योदय योजना राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन अन्तर्गत दस दिवसीय सरस मेले का आयोजन दीनदयाल हस्तकला संकुल बड़ालालपुर वाराणसी में किया गया है। मेला 22 फरवरी से 03 मार्च 2021 तक चलेगा।


मुख्य विकास अधिकारी मधुसूदन हुलगी ने बताया कि मेले का मुख्य उद्देश्य समूह से जुड़ी ग्रामीण महिलाओं को उनके द्वारा उत्पादित उत्कृष्ट उत्पादों हेतु मंच प्रदान करना है, जिससे वे अपने सामानों की प्रदर्शनी व बिक्री कर सकें। मेले में दरी, कालीन, टेराकोटा, आचार मुरब्बा, अगरबत्ती, फ्लावर पाट, सीनरी, आर्टिफिसियल ज्वेलरी, बासं के उत्पाद तथा जूते चप्पल आदि के स्टाल लगाये गए हैं।

मेले में उक्त सामग्रियों की मांग भी मेले में आये पर्यटकों द्वारा खूब देखी जा रही है। मेले में प्रतिदिवस स्थानीय कलाकारों द्वारा सायंकालीन सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया जा रहा है।
आसाम व सोनभद्र के बांस के उत्पाद, सहारनपुर के लकड़ी के फर्नीचर, हमीरपुर के मसाले, फ़िरोज़ाबाद के कांच के सामान,बनारसी सिल्क साड़ीयां, लखीमपुर के लेदर के सामान, मीरजापुर व भदोही के कालीन मेला के मुख्य आकर्षण हैं तथा इसकी मांग मेला में आयें पर्यटकों द्वारा खूब हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *