अम्बेडकर स्टडी सेंटर के तत्वावधान में दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार

अम्बेडकर स्टडी सेंटर के तत्वावधान में दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार

रिपोर्टर: प्रदीप दुबे

गाजीपुर: खरडीहा महाविद्यालय में अम्बेडकर स्टडी सेंटर के तत्वावधान में दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार समकालीन समाज और भारतीय राष्ट्रवाद नव्य प्रवृत्तिया और चुनौतियां विषय पर आयोजित किया गया। इस मौके पर प्रमुख वक्ता काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रो. राजकुमार ने कहां कि भारतीय राष्ट्रवाद की मूल अवधारणा समता के बुनियादी सिद्धांत पर खड़ा है। इसकी चैतन्यता, सभ्यता और संस्कृति के अनुरक्षण के साथ प्रवहमान है।

मुख्य अतिथि डा. दीनानाथ सिंह ने कहां कि भारत का राष्ट्रवाद मूल्यों के सतत सम्बर्धन के आधार पर खड़ा है। मूल्यों का संरक्षण ही भारतीय संस्कृति राष्ट्रवाद के समक्ष सबसे बड़ी चुनौती है। डा. ओमप्रकाश सिंह ने कहां कि पश्चिमी राष्ट्रवाद की भारतीय राष्ट्रवाद के समानार्थी नहीं हो सकता। पूर्वांचल विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के महामंत्री डा. राहुल सिंह ने राष्ट्रवाद के सांस्कृतिक पक्ष पर अपना विचार रखा।

कार्यक्रम में रेने मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित जल पुरुष उपनाम से विख्यात राजेन्द्र सिंह ने राष्ट्रवाद पर विचार व्यक्त करते हुए कहां कि भारत का राष्ट्रवाद गांवो के गणराज्य से बना है, जिसमें बसुधैव कुटुम्बकम की भावना समाहित है। विशिष्ट अतिथि डा. जगदीश सिंह दीक्षित ने राष्ट्र की वैचारिक अस्मिता की सुरक्षा को बनाए रखना ही आज की सबसे बड़ी चुनौती माना। कार्यक्रम में महाविद्यालय के आंतरिक गुणवत्ता प्रत्यायन समिति के सद्प्रयास से प्रकाशित पुस्तक गााधी ए वेरियर ऑफ पीस का विमोचन उपस्थित गणमान्यों द्वारा किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *