व्यापारियों ने मीरापुर बसही चौराहे पर दिया धरना

व्यापारियों ने मीरापुर बसही चौराहे पर दिया धरना

व्यापार मंडल अध्यक्ष मृत्युंजय सोनकर ने जिलाधिकारी के नाम सात सूत्रीय मांग पत्र एसीएम चतुर्थ अमृता सिंह को सौपा

रिपोर्टर:-दीपक कुमार सिंह

वाराणसी: मीरापुर बसही उद्योग व्यापार मंडल द्वारा 1 मार्च सोमवार को सभी व्यापारियों द्वारा अपने प्रतिष्ठानों को बंद कर मीरापुर बसही चौराहे पर धरना दिया गया। मीरापुर बसही व्यापार मंडल अध्यक्ष मृत्युंजय सोनकर ने बताया की इस धरना की पूर्व सूचना जिलाधिकारी महोदय को ज्ञापन के द्वारा 23 फरवरी को दी जा चुकी थी।


मीरापुर बसही व्यापार मंडल अध्यक्ष मृत्युंजय सोनकर ने कहा की भोजूबीर से मीरापुर बसही चौराहा होते हुए नटिनियादाई पानी टंकी तक लगभग 25 से 35 जल लिकेज के कारण कई महीनों से लोग दूषित पानी पीने को मजबूर है तथा इसकी वजह से सड़क भी गड्ढों में तब्दील हो रही है ।


इसकी शिकायत नगर निगम जलकल तथा जल निगम में व्यापारियों द्वारा बार-बार किया गया लेकिन अधिकारियों द्वारा अनसुना कर दिया गया इसके बाद मीरापुर बसही उद्योग व्यापार मंडल ने 10 फरवरी को जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा जिसमें इन कार्रवाई संस्थाओं द्वारा कार्य कराने की बात कही गई, कार्य ना होने पर पुन: 23 फरवरी को व्यापार मंडल द्वारा जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा गया।

जिसमें बताया गया कि इन कारदायी संस्थाओं द्वारा 3 दिन के अंदर कार्य नहीं होता है तो जनता व व्यापारी आंदोलन करने के लिए बाध्य होगें लेकिन 6 दिन बीत जाने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई जिससे क्षुब्ध होकर मीरापुर बसही व्यापार मंडल के व्यापारी गण व पदाधिकारी गण आज दिनांक 1 मार्च 2021 को मीरापुर बसही चौराहे पर आज सुबह 10 बजे से धरने पर बैठ गए।


धरना स्थल पर सर्वप्रथम चौकी इंचार्ज चांदमारी चन्द्रदीप कुमार पहुंचे और धरना समाप्त करने की कोशिश किए व्यापारियों के नहीं मानने पर अपर नगर मजिस्ट्रेट चतुर्थ अमृता सिंह धरना स्थल पर पहुंची तथा व्यापार मंडल अध्यक्ष मृत्युंजय सोनकर से वार्ता की वार्ता के दौरान उनको क्षेत्र के जल लिकेज द्वारा क्षतिग्रस्त सड़कों का बताया गया उसके बाद जिलाधिकारी के नाम सात सूत्रीय मांग पत्र सौंपा गया मांग पत्र में –

1-सभी जल लिकेज पर अविलंब कार्य शुरू कराया जाए ।

2- गड्ढों में तब्दील हो रही सड़क को दुरुस्त और प्लेन किया जाए |

3- अभी तक जिन विभागों के अधिकारियों द्वारा इस सड़क पर लापरवाही बरती गई है जिसके वजह से सड़क क्षतिग्रस्त हुई उनके खिलाफ जांच कर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए |

4-इस सड़क पर जल लिकेज की जवाबदेही संबंधित विभाग के अधिकारियों द्वारा तय किया जाए |

5- नगर निगम को आदेशित किया जाए की नारायनपुर सरसौली में सीवर लिकेज व कूड़ा की समुचित व्यवस्था करें।

6- मीरापुर बसही व्यापार मंडल क्षेत्र में डिवाइडर के दोनों तरफ प्रतिदिन कुड़ा व मिट्टी उठाई जाए।

7- जल लीकेज मरम्मत का कार्य किसी एक विभाग के हवाले किया जाए |

उक्त मांग पत्र पर अपर नगर मजिस्ट्रेट चतुर्थ अमृता सिंह महोदय ने आश्वस्त किया कि जलकल और जल निगम की संयुक्त टीम को मौके पर भ्रमण कराकर जल लिकेज के कार्य को एक हफ्ते में शुरू करा दिया जाएगा।

अध्यक्ष मृत्युंजय सोनकर ने बताया कि अगर समय सीमा के अंदर कार्य नहीं होता है तो अभी केवल मीरापुर बसही के व्यापारी आंदोलित थे, आने वाले समय में अर्दली बाजार भोजुबीर, मीरापुर, बसही तथा चांदमारी- नटिनियादाई व्यापार मंडल की संयुक्त रूप से व्यापार बंद आंदोलन किया जाएगा। धरने के समर्थन में चांदमारी नतिनियादाई व्यापार मंडल के अध्यक्ष और अर्दली बाजार व्यापार मंडल के महामंत्री उपस्थित थे |


संरक्षक भोलानाथ पटेल ने कहा कि अगर कार्य समय से नहीं हुआ तो व्यापारी अधिकारियों के खिलाफ कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाएंगे। आंदोलन मे मुख्य भूमिका संगठन मंत्री शेखर बाबा व महिला मोर्चा अध्यक्ष कंचन लता मौर्य व मीडिया प्रभारी रामजी पटेल की रही। व्यापारियों को धन्यवाद संरक्षक राज बहादुर सोनकर और महेश्वर सिंह ने दिया।


धरना में मुख्य रूप से अध्यक्ष मृत्युंजय सोनकर उपाध्यक्ष शशांक यादव, विनोद शर्मा ,महामंत्री बृजेश कुमार, कोषाध्यक्ष अजय यादव ,संगठन मंत्री शेखर बाबा , कन्हैया गुप्ता, संग्राम सिंह पटेल, मंत्री नीरज सिन्हा , मनोज प्रजापति, मीडिया प्रभारी रामजी पटेल सह मीडिया प्रभारी कौशल विक्रम पटेल तथा खून खून पटेल, अनीता पटेल , तिलकधारी, बबलू गुप्ता, राजेश प्रजापति, अरविंद गुप्ता , आजाद पटेल, राहुल , गोविंद प्रजापति, डा0 ओ.पी, राजेश तिवारी , उदय चौहान तथा सैकड़ों की संख्या में व्यापारी अपने प्रतिष्ठान बंद कर धरना स्थल पर उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *