Sat. Feb 24th, 2024

‘हतयारिन’ मां और सदमे में पिता… हुआ जब दोनों का आमना-सामना, पूछा एक ही सवाल- क्यों मार डाला बेटा मेरा?

Bengaluru CEO Suchana Seth Case: गोवा पुलिस ने बेंगलुरु की एआई स्टार्ट-अप कंपनी माइंडफुल एआई लैब की सीईओ सुचना सेठ और उसके पति वेंकट रमन का आमना-सामना कैलंगुट पुलिस स्टेशन में कराया.

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की दुनिया का जाना-माना नाम ‘सूचना सेठ’ आद खासी सर्खियों में है. ये नाम किसी बेहतरीन काम के लिए नहीं बल्कि अपने चार साल के बेटे की हत्या के आरोप में कलंकित हो चुका है. इस मामले में हर घंटे चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं. ताजा घटनाक्रम की बात करें तो गोवा पुलिस ने सीईओ सूचना सेठ और उसके अलग चुके पति वेंकट रमन का आमना-सामना कराया है. इस दौरान पति वेंकट ने एक ही सवाल पूछा कि उसके उनके बेटे को आखिर क्यों मारा. बेटे की दर्दनाक मौत के बाद पिता वेंकट सदमे में है.

गोवा पुलिस ने बेंगलुरु की एआई स्टार्ट-अप कंपनी माइंडफुल एआई लैब की सीईओ सुचना सेठ और उसके पति वेंकट रमन का आमना-सामना कैलंगुट पुलिस स्टेशन में कराया. दोनों एक दूसरे के सामने करीब 15 मिनट तक रहे. हालांकि इस दौरान दोनों एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाते रहे. तीखी बहस भी हुई. वेंकटर मन ने सूचना सेठ से पूछा कि तुमने मेरे बच्चे के साथ क्या किया है? हमारे बेटे को तुमने आखिर क्यों मार डाला? पुलिस का कहना है कि इस बात का सूचना सेठ ने कोई जवाब नहीं दिया है. 

सूचना सेठ बोली- वो जिंदा था, मैं जागी तो मरा मिला

इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के अनुसार, पति-पत्नी में टकराव के दौरान जब वेंकट ने अपने बच्चे की हत्या के बारे में पूछा तो सूचना ने जवाब दिया कि उसे मौत के बारे में कुछ भी नहीं पता है. दिलचस्प बात ये है कि सूचना सेठ ने गोवा पुलिस को भी ऐसे ही बयान दिए हैं. अपने पुलिस बयान में सीईओ सूचना सेठ ने कहा कि जब उनका बेटा गोवा के सर्विस अपार्टमेंट में जीवित था, तब वह सो गईं और जब वह उठीं तो बच्चा मर चुका था. 

पिता वेंकट रमन ने दर्ज कराए अपने बयान 

वेंकट रमन को गोवा पुलिस के सामने पेश किए जाने और जांच के हिस्से के रूप में जांच अधिकारी (आईओ) परेश नाइक के सामने अपना बयान दर्ज कराने के बाद यह टकराव हुआ. वेंकट रमन ने दावा किया कि वह आखिरी बार अपने बेटे से 10 दिसंबर को मिले थे. सूचना सेठ ने कोर्ट के आदेश का उल्लंघन करते हुए पिछले पांच रविवारों से उन्हें बच्चे से मिलने नहीं दिया था. हालांकि वेंकट रमन ने मीडिया से बात करने से इनकार कर दिया. उनके वकील अजहर मीर ने कहा कि जिस पिता ने अभी-अभी अपने बेटे को खोया है वो दुख से स्तब्ध है.

कोई जीते-कोई हारे… कुछ फर्क नहीं पड़ता

वेंकट रमन के वकील ने बताया कि बच्चे को क्या न्याय मिलेगा? शायद एक समाज के तौर पर हम कहेंगे कि न्याय होना चाहिए. लेकिन… जो गया वो वापस नहीं आने वाला… इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन जीतता है या हारता है. इसमें हमेशा नुकसान बच्चे का ही होता है. मुझे नहीं लगता कि चाहे सूचना सेठ जेल जाए, उसे जमानत मिले, उसे दोषी ठहराया जाए या नहीं, उसे इसकी कोई परवाह नहीं है. 

वकील अजहर मीर ने कहा कि वह अपने बेटे के लिए मर सकता है, लेकिन अब उसे उसके बिना जीना होगा. वकील ने कहा कि वेकंट रमन को नहीं पता कि हत्या किस वजह से हुई. इस बात का खुलासा केवल सूचना सेठ ही कर सकती है कि उसने ऐसा कृत्य क्यों किया? उन्होंने कहा कि अपराध का कारण सिर्फ एक अनुमान है. शायद वह नहीं चाहती थी कि बच्चा अपने पिता से मिले या भावनात्मक जुड़ाव रखे.

पहले फोन, फिर 2 हफ्ते में एक बार, ऐसे अपने बेटे से मिलते थे वेंकट

वकील ने कहा कि उनके बेटे की कस्टडी का मामला पिछले एक साल से बेंगलुरु फैमिली कोर्ट में चल रहा है. शुरुआत में कोर्ट ने पिता को बच्चे से फोन पर या वीडियो कॉल के माध्यम से बात करने की अनुमति दी थी. इसके बाद उन्हें दो सप्ताह में एक बार कोर्ट में या फिर किसी सार्वजनिक स्थान पर मिलने की अनुमति दी गई. नवंबर में कोर्ट ने पिता को सुबह से शाम तक घर पर बच्चे से मिलने की अनुमति दी थी. 

बच्चे की गला दबाकर हत्या कर दी गई

गोवा पुलिस ने कहा है कि सूचना सेठ ने कथित तौर पर उत्तरी गोवा के कैंडोलिम में एक सर्विस अपार्टमेंट में अपने बेटे की गला दबाकर हत्या कर दी. उसकी लाश को एक बैग में पैक किया और वापस बेंगलुरु जाने के लिए टैक्सी ली, लेकिन 8 जनवरी को कर्नाटक के चित्रदुर्ग में बीच रास्ते में ही उसे गिरफ्तार कर लिया गया.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *