पैतृक गांव पहुंचा सेना के जवान का पार्थिव शरीर

पैतृक गांव पहुंचा सेना के जवान का पार्थिव शरीर

रिपोर्टर प्रदीप दुबे

खबर गाजीपुर से है। जहां सेना के जवान का इलाज के दौरान दिल्ली में हुआ निधन। मेजर अभिषेक सिंह के नेतृत्व में पैतृक गांव पहुंचा सैनिक ब्रिजेश का पार्थिव शरीर राजकीय सम्मान के साथ सेना के जवान को दी गई अंतिम विदाई मोहम्मदाबाद तहसील के बैजलपुर गांव निवासी थे दिवंगत सैनिक बृजेश सिंह पटेल भारतीय थल सेना के गोरखा रेजीमेंट में तैनात जवान बृजेश कुमार सिंह का दिल्ली में इलाज के दौरान निधन हो गया। निधन की सूचना मिलते ही पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ गई।

दरअसल सेना के जवान बृजेश सिंह गाजीपुर जिले के मोहम्मदाबाद तहसील के बैजलपुर गांव के रहने वाले थे। उनका पार्थिव शरीर सेना के जवानों द्वारा आज उनके पैतृक गांव लेकर पहुंचे। जहां पर भारी संख्या में श्रद्धांजलि देने के लिए ग्रामीणों की भीड़ इक्कठा हो गई।


बता दें कि गाजीपुर जिले के मोहम्मदाबाद तहसील के बैजलपुर गांव निवासी नायक बृजेश कुमार सिंह पटेल का बुधवार को दिल्ली के सेना अस्पताल में बीमारी के दौरान निधन हो गया । युवा सैनिक के निधन से बैजलपुर सहित पूरे क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई । नायक बृजेश सिंह को भारतीय थल सेना के जवानों द्वारा गांव स्थित महादेवा मंदिर के बाहर मैदान में तिरंगे में लपेटकर पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी गई ।

इस मौके पर भारतीय थल सेना के मेजर अभिषेक कुमार सिंह के नेतृत्व में सेना के जवानों ने पुष्प चक्र अर्पित कर इस जांबाज नौजवान को गार्ड ऑफ ऑनर देकर अंतिम विदाई दी।

जानकारी के मुताबिक दिवंगत नायक बृजेश कुमार सिंह पटेल के पिता भगेलु पटेल भी भारतीय थल सेना में कैप्टन रह चुके हैं । इनका एक और भाई ओंकार सिंह पटेल भी भारतीय थल सेना में कार्यरत है। 30 वर्ष की उम्र में दिवंगत नायक बृजेश कुमार सिंह पटेल का विवाह बलिया बेल्थरा की ममता सिंह से हुआ था । जिससे उन्हें 1 पुत्र कार्तिक पटेल है।

इस दुखद घटना से बैजलपुर सहित उनकी ससुराल बेल्थरा में भी मातम पसरा हुआ है। स्थानीय प्रशासन की ओर से थाना अध्यक्ष मोहम्मदाबाद आशीष नाथ सिंह एवं उनके सहयोगियों द्वारा नायक बृजेश कुमार सिंह को सलामी देकर अंतिम विदाई दी गई। भारतीय सेना के इस जवान को अंतिम विदाई देने के लिए मोहम्मदाबाद सहित क्षेत्र के बैजलपुर, तिवारीपुर, हरिहरपुर आदि गांव के लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। जिसमें भारी संख्या में महिलाएं भी शामिल रही। इस अवसर पर क्षेत्रवासियों ने उनके ताबूत को कंधा देते समय जब तक सूरज चांद रहेगा बृजेश तुम्हारा नाम रहेगा आदि नारे लगाते रहे।

दुःख की इस घड़ी में पूरे गांव के लोग इस परिवार को सांत्वना देते दिखे। इस दौरान मेजर अभिषेक सिंह ने बताया कि सेना के काम से बृजेश को दिल्ली भेजा गया था। जहां पर अचानक उनके पेट मे दर्द हुआ। जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उनका इलाज के दौरान निधन हो गया। उन्होंने ये भी बताया की बृजेश होनहार जवान था। इस दुःख की घड़ी में भगवान उनके परिजनों दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *