कोरोना युग के दौरान करदाताओं को सरकार ने दी बड़ी राहत

कोरोना युग के दौरान करदाताओं को सरकार ने दी बड़ी राहत

नई दिल्ली: कोरोनोवायरस महामारी के कारण उत्पन्न होने वाली प्रतिकूल परिस्थितियों को देखते हुए करदाताओं को राहत दी गई है। सरकार ने कई कर अनुपालन समय सीमा को आगे रखा है। इस संबंध में, देश भर के करदाताओं, कर सलाहकारों और अन्य संबंधित पक्षों ने सरकार से समय सीमा बढ़ाने का अनुरोध किया था।

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने आकलन वर्ष 2020-21 के लिए संशोधित रिटर्न और संशोधित रिटर्न दाखिल करने की समय सीमा को दो महीने बढ़ा दिया है। पहले इसकी समय सीमा 31 मार्च 2021 थी लेकिन अब इसे बढ़ाकर 31 मई 2021 कर दिया गया है। आयकर अधिनियम की धारा 148 के तहत नोटिस के जवाब में 31 मई 2021 तक आयकर रिटर्न दाखिल किया जा सकता है। CBDT ने आयुक्त (अपील) के समक्ष अपील की तारीख को भी 31 मई तक बढ़ा दिया है। इस तिथि तक विवाद समाधान पैनल (DRP) के समक्ष आपत्तियां भी दर्ज कराई जा सकती हैं।

वित्त मंत्रालय ने क्या कहा
धारा 194 IA, धारा 194 IB और अधिनियम की धारा 194M के तहत काटे गए कर का भुगतान, और ऐसे कर कटौती के लिए चालान-कम विवरण भरने की तिथि भी दो महीने बढ़ाकर 31 मई, 2021 तक कर दी गई। इसी तरह, विवरण फॉर्म नंबर 61 अब 31 मई, 2021 तक दायर किया जा सकता है। वित्त मंत्रालय के एक बयान में कहा गया है कि सरकार ने करदाताओं को कोरोना अवधि के दौरान कई राहत दी है। इसी क्रम में, उन्हें अब कर अनुपालन की समय सीमा में छूट दी जा रही है।


मात्र 100 रुपये में आप एक वर्ष के लिए ईपेपर वशिष्ठ वाणी दैनिक समाचार पत्र को सब्सक्राइब करें और अपने व्हाट्सएप्प पर और ईमेल आईडी पर एक वर्ष तक निःशुल्क ईपेपर प्राप्त कर पूरे दुनिया की समाचार पढ़े, और साथ ही एक वर्ष तक अपने विज्ञापन को निःशुल्क प्रकाशित भी करवायें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *