Supreme Court भी लॉकडाउन के पक्ष में

Supreme Court भी लॉकडाउन के पक्ष में

नई दिल्ली: देश में कोरोनावायरस (CoronaVirus) की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने लॉकडाउन (Lockdown) लगाने की बात कही है। कोर्ट ने कहा है कि कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए केंद्र और राज्य सरकारें लॉकडाउन पर विचार कर सकती हैं। आपको बता दें कि कई राज्यों ने कोरोना कर्फ्यू लगाया है, लेकिन इसके बावजूद संक्रमण की रफ्तार रुकने का नाम नहीं ले रही है।

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने रविवार रात को सुनवाई करते हुए यह भी कहा कि हम केंद्र और राज्य सरकारों से सामूहिक समारोहों और सुपर स्प्रेडर कार्यक्रमों को रोकने पर विचार करने का आग्रह करेंगे। शीर्ष अदालत ने सरकारों से कहा है कि वे लोक कल्याण के हित में कोरोनावायरस की दूसरी लहर पर अंकुश लगाने के लिए लॉकडाउन पर विचार कर सकते हैं।

(Supreme Court)

गरीबों का ध्यान रखा जाना चाहिए: सुप्रीम कोर्ट
कोर्ट ने कहा कि तालाबंदी के दौरान कमजोर वर्गों की सुरक्षा के इंतजाम किए जाएं। अदालत ने कहा कि यह लॉकडाउन के सामाजिक-आर्थिक प्रभाव से परिचित है, विशेष रूप से इसका गरीबों पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है। इसलिए, यदि लॉकडाउन लगाने की आवश्यकता है, तो सरकार को पहले गरीबों की जरूरतों को पूरा करने के लिए व्यवस्था करनी चाहिए।

विशेषज्ञ भी लॉकडाउन चाहते हैं
पिछले साल की तुलना में इस बार देश में हालात बदतर हैं। कोरोना की पहली लहर के दौरान, पूरे देश में लॉकडाउन लगाया गया था, लेकिन अब जब स्थिति लगातार बिगड़ रही है, तो कोई भी लॉकडाउन के बारे में नहीं सोच रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में कहा था कि तालाबंदी अंतिम विकल्प होना चाहिए। जबकि विशेषज्ञों का मानना ​​है कि कोरोना संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने के लिए लॉकडाउन आवश्यक है।

Dr Randeep Guleria 1

डॉ गुलेरिया ने यह सुझाव दिया
हाल ही में, एम्स के निदेशक डॉ। रणदीप गुलेरिया, डॉ रणदीप गुलेरिया (Dr Randeep Guleria) ने भी बेकाबू कोरोना पर काबू पाने के लिए सख्त तालाबंदी करने की बात कही थी। डॉ। गुलेरिया ने कहा कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर को हराने के लिए सख्त लॉकडाउन की जरूरत है, क्योंकि यह पिछले साल मार्च में लगाया गया था। उन्होंने कहा कि जहां भी संक्रमण की दर 10% से अधिक है, वहां पिछले साल की तरह स्थानीय स्तर पर तालाबंदी होनी चाहिए।

मात्र 100 रुपये में आप एक वर्ष के लिए ईपेपर वशिष्ठ वाणी दैनिक समाचार पत्र को सब्सक्राइब करें और अपने व्हाट्सएप्प और ईमेल आईडी पर एक वर्ष तक निःशुल्क ईपेपर प्राप्त कर पूरे दुनिया की समाचार पढ़े, और साथ ही एक वर्ष तक अपने विज्ञापन को निःशुल्क प्रकाशित भी करवायें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *