छात्रों की परीक्षाएं रद्द कर दी जानी चाहिए: वकील

छात्रों की परीक्षाएं रद्द कर दी जानी चाहिए: वकील

वरिष्ठ वकीलों ने छात्रों की ओर से न्यायालय से अपील की कि कोरोना महामारी के प्रकोप के मद्देनजर अंतिम वर्ष की परीक्षाएं रद्द कर दी जानी चाहिए…
Youtube banner

नयी दिल्ली: उच्चतम न्यायालय (SC) ने शुक्रवार को राज्यों और विश्वविद्यालयों को दिए आदेश में कहा कि आगामी 30 सितम्बर तक अंतिम वर्ष की परीक्षा लिये बिना छात्रों को डिग्री नहीं दी जा सकेगी हालांकि राज्यों को यह सलाह दी गयी है कि वे परीक्षाओं की तिथि आगे बढ़ाने के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) से अनुरोध कर सकते हैं।

Supreme-Court JEE NEET छात्रों

SC न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली न्यायमूर्ति आर सुभाष रेड्डी और न्यायमूर्ति एमआर शाह की पीठ ने मामले की सुनवाई के बाद हालांकि कहा कि आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत परीक्षा रद्द किये जाने संबंधी महाराष्ट्र सरकार का निर्णय प्रभावी होगा।

Vashishtha Property

महाधिवक्ता तुषार मेहता ने यूजीसी की ओर से कहा कि स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश प्रारंभ करने के वास्ते छात्रों के हित में यह निर्णय लिया गया है।

छात्रों

यूजीसी ने कहा है कि कुछ राज्यों द्वारा परीक्षाएं रद्द किये जाने के निर्णय से उच्च शिक्षा के स्तर पर प्रत्यक्ष असर पड़ेगा। यूजीसी ने संशोधित दिशानिर्देश जारी किया है जिसमें कहा गया है कि अंतिम वर्ष की सभी परीक्षाएं कोविड-19 मानक परिचालन प्रक्रिया के तहत ली जायेगी।

सर्वश्री अभिषेक मनु सिंघवी , श्याम दीवान और अरविंद दतार समेत वरिष्ठ वकीलों ने छात्रों की ओर से न्यायालय से अपील की कि कोरोना महामारी के प्रकोप के मद्देनजर अंतिम वर्ष की परीक्षाएं रद्द कर दी जानी चाहिए।

Youtube banner

प्रिय मित्रों: अगर आप एक अच्छे लेखक है तो आप हमें संपादकीय लिख कर या किसी भी मुद्दे से संबधित अपनी राय, सुझाव और प्रतिक्रियाएं हमारे ई-मेल पर भेज सकते हैं । अगर हमारें संपादक को अपका लेख या मुद्दा सही लगा तो हम अपके मुद्दे को अपने समाचार पत्र एवं वेबसाइटपर प्रकाशित किया जाएगा। आप अपना पूरा नाम,फोटो व स्थान का नाम जरुर लिखकर भेजें।
अन्यथा उसके लेख एवं मुद्दे को प्रकाशित नहीं किया जाएगा।

Email: vashishthavani.news@gmail.com

वशिष्ठ वाणी भारत का प्रमुख दैनिक समाचार पत्र हैं, जिसमें हर प्रकार के समसामायिक-राजनीति, कानून-व्यवस्था न्याय-व्यवस्था, अपराध, व्यापार, मनोरंजन, ज्ञान-विज्ञान, खेल-जगत, धर्म, स्वास्थ्य व समाज से जुडे हुये हर मुद्दों को निष्पक्ष रुप से प्रकाशित किया जाता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *