स्लग प्रधानमंत्री आवास योजना में वसूली

स्लग प्रधानमंत्री आवास योजना में वसूली

रिपोर्ट- प्रदीप दुबे

गाजीपुर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना कि हर किसी का अपना मकान हो अपना। जिसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना का शुभारंभ किया जिसके तहत ग्रामीण इलाकों में आवास के निर्माण के लिए 1.30 लाख और शहरी इलाकों में 2.50 लाख तीन किस्तों में लाभार्थी को दिया जाता है। लेकिन इस योजना के लागू हो जाने के बाद अधिकारियों और कर्मचारियों के भ्रष्टाचार की खबरें भी सामने आने लगी हैं। ऐसा ही एक मामला भावरकोल थाना क्षेत्र के लोचईन गांव का है जहां का ग्राम रोजगार सेवक वीर बहादुर के द्वारा लाभार्थी के खाते में प्रथम किस्त ₹40000 ट्रांसफर होने के बाद लाभार्थी को रात में करीब 10:00 बजे फोन करके प्रथम किस्त जाने के एवज में ₹20000 का मान किया गया ।

यह मांग ग्राम प्रधानों के कार्यकाल खत्म होने के बाद किया गया है जिसका ऑडियो इन दिनों बहुत ही तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें उसने लाभार्थी से उस वक्त पैसा मांगा है जब लाभार्थी सोया हुआ था। लाभार्थी ने कहा है कि अगर सभी लोग का इसमें पैसा लगता होगा तो मैं भी जरूर दूंगा और उसके बाद ग्राम रोजगार सेवक के द्वारा उस पैसे की वसूली के लिए कई दिनों तक घर का चक्कर लगाया जाने लगा लेकिन लाभार्थी के द्वारा यह पैसा उसे नहीं दिया गया जो लाभार्थी ने खुद अपने बयान में भी दिया है।

वह इस मामले पर जिला अधिकारी मंगला प्रसाद सिंह से जानने का प्रयास किया गया तो उन्होंने इसे गंभीरता से लेते हुए तत्काल कार्यवाही करते हुए वीडियो भावर कोल को ग्राम रोजगार सेवक को अपने साथ लेकर जिला मुख्यालय पर तलब किया है।और उन्होंने बताया कि अगर इस मामले में सच्चाई सामने आती है तो निश्चित रूप से ग्राम रोजगार सेवक के खिलाफ मुकदमा लिख कर जेल भेजने की भी कार्रवाई करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *