रेलवे बोर्ड ने पंडित दीन दयाल उपाध्याय की मूर्ति लगाने पर लगाई रोक

रेलवे बोर्ड ने पंडित दीन दयाल उपाध्याय की मूर्ति लगाने पर लगाई रोक

रिपोर्टर:-रंधा सिंह

चन्दौली। पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर- एकात्म मानववाद के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय की स्मृति में मुगलसराय जंक्शन का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन कर दिया गया। नाम बदलने की प्रक्रिया में मुख्यमंत्री के आगमन से लेकर तमाम साज सज्जा व डेटा फीडिंग पर रेलवे ने करोड़ों रुपए बहा दिए। बावजूद इसके पूरे रेल परिसर में कहीं भी पंडित दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा स्थापित नहीं हो पाई है।

जिसे लेकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर निवासी विकास शर्मा ने रेलवे बोर्ड व प्रधानमंत्री कार्यालय से पत्र लिख कर आग्रह किया था कि रेल परिसर में पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की प्रतिमा स्थापित की जाय। जिसको देखते हुए पीएमओ ने पत्र भेजकर विकास शर्मा को अवगत कराया है कि रेल परिसर में पंडित दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा लगाने की अनुमति नहीं दी जा सकती।

आपको बता दें कि रेलवे स्थापना नियमावली के अनुसार रेल परिसर में किसी भी महापुरुष की प्रतिमा स्थापित नही की जा सकती है।जबकि रेल परिसर में डॉ भीमराव अंबेडकर, गौतम बुद्ध व लाल बहादुर शास्त्री की प्रतिमा विराजमान है। जो रेलवे स्थापना नियमावली के लागू होने के बाद स्थापित की गई है। ऐसे में महापुरुषों को लेकर रेलवे के दोहरे मापदंड पर सवाल खड़े होने लगे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *