विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उ0प्र0 शाखा आजमगढ़ के आवाहन पर एक दिवसीय कार्य बहिष्कार

  • संवाददाता: राकेश वर्मा

आज़मगढ़: आज़मगढ़ में विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उत्तर प्रदेश जनपद शाखा आजमगढ़ के आवाहन पर केंद्र व राज्य सरकारों के निजीकरण की नीति के विरोध में एवं अन्य प्रमुख समस्याओं के समाधान हेतु सभी अधिकारियों कर्मचारियों ने मुख्य अभियंता कार्यालय पर सुबह 10:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक कार्य बहिष्कार किया गया इनकी 6 सूत्रीय मुख्य मांगे इलेक्ट्रि सिटी अमेंडमेंट बिल 2020 में विद्युत वितरण के निजीकरण हेतु लाए जा रहे।

स्टैंडर्ड बिंडिंग डॉक्यूमेंट को निरस्त किया जाए निजी करण की केंद्र शासित प्रदेशों चंडीगढ़ व पुडुचेरी व किसी भी प्रांत में चल रही प्रक्रिया वापस ली जाए ग्रेटर नोएडा निजीकरण आगरा का फ्रेंचाइजी करार रद्द किया जाए।पारेषण और वितरण को एक साथ रखते हुए केरल के के एस ई बी लि, हिमाचल प्रदेश के एचपीएसईबी लिमिटेड की तरह उम्र में भी यूपीएसईबी लिमिटेड गठित की जाए।

सभी बिजली कर्मियों के लिए पुरानी पेंशन योजना वर्ष 2000 से लागू की जाए नियमित पदों पर नियमित भर्ती की जाए सभी रिक्त पदों विशेषताया क्लास 3 क्लास 4 के सभी रिक्त पद भरे जाएं एवं संविदा निविदा कर्मचारियों को तेलंगना की तरह नियमित किया जाए सभी वर्गों की वेतन विसंगतियों को दूर किया जाए वह सभी वर्गों को 3 पदोन्नत पदों का समय बाद वेतनमान दिया जाए ।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से इंजीनियर संदीप प्रजापति, इंजीनियर वीरेंद्र सिंह, इंजीनियर आशुतोष यादव, निखिल शेखर सिंह, जयप्रकाश यादव, वेद प्रकाश यादव, चंद्रजीत यादव, काशीनाथ गुप्ता, अखिल पांडेय, अशेष सिंह, राज नारायण सिंह, धर्मू यादव, कमलेश यादव व अन्य पदाधिकारी कर्मचारी गण विद्युत केंद्रों से सैकड़ों संविदा कर्मी उपस्थित रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *