जिलाधिकारी ने कोविड-19 की तीसरी लहर की सम्भावना पर बैठक की

जिलाधिकारी ने कोविड-19 की तीसरी लहर की सम्भावना पर बैठक की

महेश पाण्डेय ब्यूरो चीफ

वाराणसी (वशिष्ठ वाणी) : बैठक के दौरान दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल, ईएसआईसी, एसएसपीजी कबीरचैरा, लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल, रामनगर तथा बीएचयू इमरजेंसी तथा पिडीयाट्रिक, महामना केंसर अस्पताल सहित समस्त सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर ऑक्सीजन उपलब्धता सुनिश्चित कराने की व्यवस्था हेतु ऑक्सीजन पाइप लाईन, प्लेटफार्म, शेड और इलेक्ट्रीक कार्य की अलग-अलग जानकारी ली।

दीनदयाल अस्पताल में कार्यरत एक आक्सीजन प्लांट 613 एलपीएम का लगाया जा चुका है। इसके अलावा एक और ऑक्सीजन प्लांट लगाने की प्रक्रिया चल रही है, ईएसआईसी अस्पताल में 500 एलपीएम का ऑक्सीजन प्लांट कार्यरत है इसके अलावा रिलाईन्स कम्पनी द्वारा एक और प्लांट स्थापित होने की प्रक्रिया में है, एसएसपीजी कबीरचैरा अस्पताल में 1000-1000 एलपीएम के दो प्लांट लगाये जा रहे हैैं। समस्त ब्लाकों के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर भी ऑक्सीजन प्लांट लगाये जा रहे है।

उन्होने सभी सम्बन्धित कम्पनियों को पत्र के माध्यम से उनके द्वारा आपूर्ति किये जाने वाले आक्सीजन प्लांट जहां और जिस अस्पताल में स्थपित किया जाना है से सम्बन्धित जानकारी देने का निर्देश दिया। जनपद में कुल 18 आक्सीजन प्लांट स्वीकृत हो चुके है तथा अवशेष 03 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बडागाॅव, शिवपुर व गजोखर के लिये टाई-अप किया जा रहा है। उन्होने सम्बन्धित अधिकारी से पूछा कि आक्सीजन प्लांट स्थापित करने हेतु सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर सिविल कंस्ट्रक्शन का कार्य कहाॅ तक पहुंचा।

बैठक में बताया गया कि आराजीलाईन एवं गंगापुर में सिवील कंस्ट्रक्श्न का कार्य पूरा हो चुका है, जिसपर जिलाधिकारी द्वारा अवशेष आठ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के सिवील वर्क का कार्य चार दिनों में पूरा कराने का निर्देश दिया जिसकी धनराशी एसडीआरएफ के अन्तर्गत मिलेगी।

उन्होने कहा कि लालबहादुर शस्त्री अस्पताल रामनगर में सिवील कंस्ट्रक्शन का कार्य 03 दिनों में पूरा करा लिया जाय। बीएचयू स्थित इमेरजेन्सी ब्लाक तथा महामना केंसर अस्पताल का सिविल कंस्ट्रक्शन का कार्य चार दिन में पूर्ण कराने के लिये एनएचएआई के अधिकारी को निर्देशित किया गया।

जिलाधिकारी द्वारा बताया गया कि वाराणसी के विभिन्न अस्पतालों में जो ऑक्सीजन प्लान्ट लग गये हैं, उनमें प्रत्येक अस्पताल में एक टेक्नीकल मैनपावर रखने के बारे में सरकार के द्वारा निर्देश दिये गये हैं। उसके अनुसार प्रत्येक अस्पताल में अस्पताल की तरफ से तथा सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय की तरफ से कांट्रैक्चुअल आधार पर टेक्नीशियन रख लिये जायें, जो ऑक्सीजन प्लान्ट के रख-रखाव, मेंटेनेंस व संचालन कर सके। इसके लिए आवश्यक धनराशि अस्पताल द्वारा स्वयं वहन किया जायेगा तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय द्वारा इस हेतु मार्गदर्शन प्राप्त करके शासन से इस धनराशि की व्यवस्था करायी जायेगी।

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों और अस्पतालों में ऑक्सीजन पाईप लाईन का कार्य पूरा कराने का निर्देश देते हुए कहा कि 10 दिनों के अन्दर अवशेष 08 सीएचसी में पाईप लाईन का कार्य पूर्ण कराये तथा पीडी डीआरडीए को मंत्री एवं विधायकगण को भुगतान हेतु पत्र लिखने का निर्देश दिया। कार्य प्रारम्भ करने के लिये कम्पनियों को कल तक वर्क आर्डर जारी करनें का निर्देश दिया। जनपद में स्थित कामरूप आक्सीजन प्लांट को विद्युत कनेक्शन देने तथा रामनगर व चन्दौली के ऑक्सीजन प्लांट का रिव्यू करने का निर्देश उपायुक्त उद्योग को दिया।

अपर जिलाधिकारी, नगर को निर्देश दिया कि जनपद के ऑक्सीजन वेन्डर्स की बैठक 3 दिन के अन्दर कराकर सारे वेन्डर कहाॅ के है उनकी पूरी जानकारी इकठ्ठा करे, उनके पास कितने सिलेन्डर है, किस अस्पताल को कितने सिलेन्डर और पब्लिक के लिये कितने सिलेन्डर और किस रेट पर उपलब्ध करा सकते है। सभी अस्पतालो से लिखित रूप से जानकारी प्राप्त कर, कि कितने वेन्डर कोविड के दौरान काम छोडकर भागे उनकी सूची आज ही उपलब्ध कराये। जो-जो वेन्डर कोविड महामारी के दौरान काम छोडकर भाग गए उनपर क्या-क्या कार्यवाही हुई अगर नही हुई तो उनका लाइसेंस निरस्त कर नोटिस जारी करें।

बैठक में ज्वाईन्ट मजिस्ट्रेट, अपर जिलाधिकारी (वि0/रा0), अपर जिलाधिकारी, नगर, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, संयुक्त आयुक्त उद्योग, सहायक आयुक्त, औषधि, पीडी, डीआरडीए सहित सभी सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *