Sat. Feb 24th, 2024

Nitish Oath Ceremony: नीतीश कुमार 9वीं बार बनें मुख्यमंत्री, सम्राट चौधरी और विजय सिन्हा बने डिप्टी सीएम

Nitish Oath Ceremony

Nitish Oath Ceremony:  नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने 9वीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। उन्हें राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर (Rajendra Vishwanath Arlekar) ने शपथ दिलाई। वहीं, बिहार बीजेपी के अध्यक्ष सम्राट चौधरी और विजय सिन्हा ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली। इसके साथ ही मंत्री डॉ. प्रेम कुमार (BJP), मंत्री विजय कुमार चौधरी (JDU), मंत्री श्रवण कुमार (JDU), मंत्री विजेंद्र यादव, मंत्री संतोष कुमार सुमन (हम) और मंत्री सुमित कुमार सिंह (निर्दलीय) ने भी शपथ ली। 

राजभवन के मुताबिक, नीतीश कुमार को नई सरकार के गठन तक कार्यवाहक मुख्यमंत्री बने रहने को कहा गया है। शपथ ग्रहण समारोह भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा की मौजूदगी में होने की संभावना है। नड्डा के अपराह्न तीन बजे के आसपास यहां पहुंचने की उम्मीद है। कुमार अगस्त 2022 में महागठबंधन में शामिल हुए थे। उन्होंने भाजपा पर जद (यू) को ‘‘विभाजित” करने की कोशिश का आरोप लगाते हुए उससे नाता तोड़ लिया था। उन्होंने बहुदलीय गठबंधन के साथ नई सरकार बनाई थी, जिसमें राजद, कांग्रेस और तीन वामपंथी दल शामिल थे।

बिहार में भाजपा के प्रभारी विनोद तावड़े ने जनता दल (यूनाइटेड) अध्यक्ष नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद कहा, ‘‘आज हुई विधायक दल की बैठक में भाजपा विधायकों ने जद(यू) के समर्थन से राज्य में राजग सरकार बनाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष सम्राट चौधरी को विधायक दल का नेता और विजय सिन्हा को उपनेता चुना गया।” भाजपा के वरिष्ठ नेता तारकिशोर प्रसाद ने बताया कि उपमुख्यमंत्री पद के लिए चौधरी और सिन्हा पार्टी की ‘‘निश्चित रूप से” पसंद होंगे। एक अन्य भाजपा नेता ने बताया कि पार्टी के जिन अन्य नेताओं को नई सरकार में मंत्री बनाए जाने की संभावना है, उनमें प्रसाद के अलावा नितिन नवीन, शाहनवाज हुसैन, रामप्रीत पासवान, नीरज सिंह बबलू शामिल हैं। 

बता दें कि मौजूदा 243 सदस्यीय बिहार विधानसभा में जद(यू) के 45 और भाजपा के 78 विधायक हैं। कुमार को एक निर्दलीय सदस्य का भी समर्थन हासिल है। जीतन राम मांझी के नेतृत्व वाली हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा पहले से ही राजग का हिस्सा है। उसके 4 विधायक हैं। राजद (79 विधायक), कांग्रेस (19 विधायक) और वाम दलों (16 विधायकों) के विधायकों को मिलाकर महागठबंधन के 114 विधायक हैं, जो बहुमत से 8 कम हैं।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *