ADS (6)
ADS (5)
ADS (4)
ADS (3)
ADS (2)
previous arrow
next arrow
 
ADS (6)
ADS (5)
ADS (4)
ADS (3)
ADS (2)
previous arrow
next arrow
Shadow

Mumbai Police ने Republic TV को भेजा समन

Republic TV TRP Scam Mumbai Police

Republic TV TRP Scam Mumbai Police

Republic TV और अन्य दो चैनलों को देखने के लिए महीने के 400 रुपये देने का लालच दिया।
Advertisement

मुंबई: मुंबई पुलिस ने टीवी रेटिंग हेरफेर मामले में पूछताछ के लिए शनिवार को रिपब्लिक टीवी (Republic TV) के सीएफओ को बुलाया है। पुलिस ने रिपब्लिक टीवी (Republic TV) के सीएफओ को पेश होने के लिए समन भेजा है। इस मामले का खुलासा मुंबई पुलिस ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में किया और कहा गया कि तनी चैनलों के खिलाफ शिकायतें मिलेंगी, जिसमें रिपब्लिक टीवी का नाम भी शामिल है। अधिकारियों ने कहा कि यह जांच की जा रही है कि चैनल ने दर्शकों को अपनी रेटिंग बढ़ाने के लिए पैसे का भुगतान किया ताकि वह विज्ञापन से अधिक राजस्व कमा सके।

Republic TV

आपको बता दें कि मुंबई के पुलिस कमिश्नर ने खुद गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में तीन चैनलों पर इस रैकेट में शामिल होने का आरोप लगाया था जिसमें रिपब्लिक टीवी (Republic TV) सबसे बड़ा नाम है। मुंबई पुलिस कमिश्नर ने दावा किया था कि दो छोटे चैनलों, फ़क्ट मराठी और बॉक्स सिनेमा के मालिकों को गिरफ्तार कर लिया गया है और रिपब्लिक टीवी (Republic TV) की जाँच चल रही है। पुलिस के मुताबिक, इस फर्जी रैकेट की जानकारी मिलने पर विशाल भंडारी नाम का व्यक्ति पहले आया। विशाल टीआरपी एजेंसी BARC के लिए काम करने वाली एजेंसी हंसा का कर्मचारी रहा है और उसे पता था कि बैरोमीटर कहां लगाए गए थे। अन्य आरोपी संजू राव के साथ, उसने नकली रेटिंग का खेल शुरू किया। जिस घर में बैरोमीटर लगाया गया था, वहां जाकर उन्होंने उन्हें रिपब्लिक टीवी (Republic TV) और अन्य दो चैनलों को देखने के लिए महीने के 400 रुपये देने का लालच दिया।

Advertisement

पुलिस ने अब तक कुल 4 लोगों को गिरफ्तार किया है। बार्क और हंसा एजेंसी के साथ, कुछ परिवार के सदस्यों के भी बयान लिए गए हैं, जिन्हें रिपब्लिक और अन्य आरोपी चैनलों को देखने का प्रलोभन दिया गया था। इस बीच, रिपब्लिक टीवी ने एक बयान जारी कर मुंबई पुलिस कमिश्नर पर बदले की भावना से झूठे केस बनाने का आरोप लगाया।

पुलिस का दावा है कि वह मामले में रिपब्लिक चैनल के प्रमोटर और निदेशक की भूमिका की जांच कर रही है। साथ ही, उस चैनल द्वारा प्राप्त विज्ञापनों की भी जांच की जाएगी, क्योंकि नकली रेटिंग के आधार पर प्राप्त विज्ञापन को अपराध का हिस्सा माना जाएगा। इसलिए, चैनल के बैंक खाते की भी जांच की जाएगी। पुलिस ने मामले में जालसाजी और धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है।

Advertisement

प्रिय मित्रों: अगर आप एक अच्छे लेखक है तो आप हमें संपादकीय लिख कर या किसी भी मुद्दे से संबधित अपनी राय, सुझाव और प्रतिक्रियाएं हमारे ई-मेल पर भेज सकते हैं । अगर हमारें संपादक को अपका लेख या मुद्दा सही लगा तो हम अपके मुद्दे को अपने समाचार पत्र एवं वेबसाइटपर प्रकाशित किया जाएगा। आप अपना पूरा नाम,फोटो व स्थान का नाम जरुर लिखकर भेजें। अन्यथा उसके लेख एवं मुद्दे को प्रकाशित नहीं किया जाएगा।

Email: vashishthavani.news@gmail.com

वशिष्ठ वाणी भारत का प्रमुख दैनिक समाचार पत्र हैं, जिसमें हर प्रकार के समसामायिक-राजनीति, कानून-व्यवस्था न्याय-व्यवस्था, अपराध, व्यापार, मनोरंजन, ज्ञान-विज्ञान, खेल-जगत, धर्म, स्वास्थ्य व समाज से जुडे हुये हर मुद्दों को निष्पक्ष रुप से प्रकाशित किया जाता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *