शहीद गणेश यादव के शव यात्रा में उमड़ा जनसैलाब

शहीद गणेश यादव के शव यात्रा में उमड़ा जनसैलाब

रिपोर्टर:-आदर्श सिंह

मऊ/इंदारा। हलधरपुर थाना क्षेत्र के चकरा गांव निवासी गणेश यादव पुत्र विश्वनाथ यादव उम्र 38 वर्ष आर्मी जवान थे और उनकी तैनाती लेह में थी। 24 फरवरी देर शाम को आर्मी जवान गणेश यादव की अचानक मौत हो गई । गणेश की मौत की ख़बर जैसे परिजनों और इलाके के लोगो को लगा तो परिवार सहित पूरे इलाके में शोक की लहर फैल गई । घटना जानकारी होने पर गांव वाले गणेश के घर पहुँच कर परिवार को सांत्वना देने का काम कर रहे है । गांव वाले अपने इस बेटे की मौत को सहादत बता कर गौरवशाली होने की बात कर रहे है । क्योकि लेह जैसे दुर्गम इलाके में रहते हुए देश की सीमाओं को सुरक्षा करते हुये मौत को गले लगा लिया भले ही मौत की वजह कोई हो। लेकिन मौत तो देश की सीमा की रक्षा करते ही हुवा है ।


जवान का पार्थिव शरीर शनिवार को पैतृक घर पहुँचा तो पूरे इलाके में जयघोष का नारा लगाते हुए तिरंगा यात्रा निकाला ताबूत में अपने लाल का शव देखते परिवार वालो सहित उमड़े जन सैलाब की भीड़ की आँखे नम हो गई। प्रदेश सरकार के मंत्री दारा सिंह चौहान जवान के घर पहुँचे। श्रद्धांजलि दिया सरकार की तरफ से पचास लाख का चेक दिया,साथ हीं परिवार के एक सदस्य को नौकरी दिया शहीद के नाम पर सड़क बनाने वादा किया है। पहुँची भीड़ नें भारत माता के जयघोष का नारा लगाया तो पाकिस्तान मुर्दाबाद का नारा लगाया।


गणेश यादव 2002 में आर्मी के 285 मीडियम रेजिमेंट भर्ती हुए थे इन दिनों उनकी तैनाती लेह में थी। मौत होने की खबर से पूरा इलाका शोक में डूब गया । गणेश यादव का एक भाई है जो मुंबई में प्राइवेट नौकरी करता है । गणेश की माता का निधन चार वर्ष पहले ही हो चुका है । दो बच्चे है एक बेटी उजाला 12 वर्ष और बेटा आकाश 9 वर्ष का है। शहीद गणेश यादव गांव के ही प्राथमिक स्कूल से प्रारम्भिक शिक्षा गांव के प्राथमिक विद्यालय से हुई । हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की पढ़ाई पब्बर इंटर कालेज औराई कला बलिया से हुई। गणेश के पिता विश्वनाथ यादव किसानी का काम करते है।


गणेश के पिता ने बेटे की शहादत पर नाज है और गर्व भी कहा कि आगे भी वो अपने बच्चों को सेना में भर्ती करा कर देश की सेवा में भेजने का काम करेंगे।


गणेश के शुभ चिंतको ने भी अपने इस मित्र की मौत बता कर उसके शहादत पर फुट फुट कर रोया तो साथ ही कहा कि हमे गर्व है अपने दोस्त पर की कम समय मे उसने इतिहास में अपना नाम लिख दिया। गणेश बेटे बेटी अभी छोटी उम्र के है पिता के बारे में कहा वो हमेशा हम लोगो को एक अच्छा इंसान बनने के लिए बोलते थे। वहीं शहीद की पत्नी तारा देवी व बेटी का रोते-रोते बुरा हाल है।

दोनों रोते-रोते बेहोश हो जा रही है। शहीद बेटे का अंतिम संस्कार करने पिता विश्वनाथ यादव दोहरी घाट के लिए चले तो उनके पिछे हजारों लोग भारत माता की जय हो, गणेश भैया अमर रहे। के नारे लगा रहे थे।

इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री दारा सिंह चौहान, सांसद प्रतिनिधि गोपाल राय, पूर्व विधायक सुधाकर सिंह, शैलेंद्र यादव, सहित तमाम गणमान्य लोग उपस्थित रहे।भारी मात्रा में फोर्स भी मौजूद रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *