प्रकृति की जीवंतता से ही कोरोना की मुक्ति संभव: योगभूषण महाराज

प्रकृति की जीवंतता से ही कोरोना की मुक्ति संभव: योगभूषण महाराज

  • ओ-टू मिशन के अंतर्गत वृक्षारोपण
योगभूषणजी महाराज
धर्मयोगी योगभूषणजी महाराज

नई दिल्ली, 19 अप्रैल 2021 धर्मयोग फाउंडेशन के तत्वावधान में मिशन ओ-टू यूनिवर्स का शुभारम्भ किया गया। जिसके अंतर्गत देश भर में वृक्षारोपण के अनूठे और प्रेरक उपक्रम आयोजित हुए। कोरोना महामारी के बीच ऑक्सीजन की बढ़ती किल्लत को देखते हुए वृक्षारोपण के माध्यम से ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ाने का अभिनव उपक्रम सामने आया है। समारोह में वक्ताओं ने प्रकृति संरक्षण के लिए वृक्षारोपण की जरूरत को व्यक्त करते हुए कहा कि प्रकृति की जीवंतता ही कोरोना की मुक्ति का माध्यम है।

श्रीवास्तव
ओ-टू मिशन के शुभारंभ
समारोह में बोलते हुए श्री भव्य 
श्रीवास्तव (रिलिजन वल्र्ड)।

मंत्र महर्षि श्री योगभूषण महाराज की संप्रेरणा से धर्मयोग फाउंडेशन द्वारा प्रकृति और संस्कृति संरक्षण का अनूठा कार्यक्रम ओ-टू यूनिवर्स तैयार किया गया, जिसके तहत सम्पूर्ण देश भर में वर्चुअल मीटिंग के द्वारा सभी लोगों ने वृक्षारोपण करते हुए प्रकृति संरक्षण की शपथ ली। जन्मदिन, विवाह, शादी, अन्य मांगलिक अवसरों पर उपहार स्वरूप वृक्ष प्रदान करने के लिए लोगों द्वारा संकल्प लिए गए। विदित हो धर्मयोग फाउंडेशन अपने समस्त कार्यक्रमों में अतिथियों को उपहार एवं सम्मान स्वरूप तुलसी का पौधा भेंट करता है।

योगभूषणजी महाराज ने ऑक्सीजन की महत्ता पर बल देते हुए कहा कि आज कोरोना महामारी के समय में हमने यह अहसास कर ही लिया है कि हमारे जीवन मे ऑक्सीजन की कितनी जरूरत है। इस संकट के समय में हम देख रहे है कि रोगियों को ऑक्सीजन की पूर्ति नहीं हो पा रही है लेकिन अनादिकाल से हमारी ऑक्सीजन की पूर्ति हमारी प्रकृति कर रही है। जीवन को संतुलित एवं जीवनमय बनाने की इस सुंदर और व्यवस्थित प्रक्रिया को हमने तथाकथित विकास एवं आर्थिक स्वार्थ के चलते भारी नुकसान पहुंचाया है। प्रकृति का लगातार हो रहा दोहन और पर्यावरण की उपेक्षा ही कोरोना जैसी महामारी का बड़ा कारण है। वर्तमान में हमने जंगल नष्ट कर दिए और भौतिकवादी जीवन ने इस वातावरण को धूल, धुएं के प्रदूषण से भर दिया है जिससे हमारा भविष्य खतरे में है। इस खतरे से बचाने में ओ-टू मिशन एक कारगर उपाय है। योगभूषण महाराज ने आगे कहा कि इस असुरक्षित भविष्य को सुरक्षित करने के लिए हमें अब जागना होगा। कुछ करना ही होगा। वर्तमान की सबसे बड़ी समस्या प्रदूषण, क्लाइमेट चेंज, वेस्ट मैनेजमेंट, बायोडाइवर्सिटी आदि है जिनका सही समाधान वृक्षारोपण ही है। इसे एक राष्ट्रव्यापी अभियान बनाना होगा। ओ-टू यूनिवर्स मिशन इसी कार्य का शुभारंभ है।

टू मिशन
ओ-टू मिशन के अंतर्गत 
घर-घर मेें वृक्षारोपण के दृश्य।

इस कार्यक्रम में जैनाचार्य श्री सौभाग्य सागर जी महाराज, डॉ श्रेयांस जैन (अध्यक्ष-भारतवर्षीय श्री दिगम्बर जैन), भव्य श्रीवास्तव (रिलिजन वल्र्ड), ब्र. देवेंद्र भाई, मुम्बई, ज्योतशिखरजी (यूएनईपी), योगाचार्य श्री राजीव जैन त्रिलोक (भोपाल), श्री ललित गर्ग (अध्यक्ष-सुखी परिवार फाउंडेशन, दिल्ली), पीयूष रविन्द्र खड़कपुरकर (संघपति), दे. राजा, डॉ. सुरेंद्र जैन (सीएमओ, बड़ोदरा,) राजेन्द्र जवेरी (न्यूजर्सी), श्रीमती मनीषाजी (अलवर), शोभना मालडे (केन्या), आर्यन (जापान),  आदि सैंकड़ों देश-विदेश के धर्म श्रद्धालु उपस्थित रहे।

सम्पूर्ण कार्यक्रम का संयोजन ब्र. योगांशी दीदी, गौतम कुमार शर्मा (दिल्ली) ने किया तथा प्रसारण जैनम जूम डिजिटल चैनल पर किया गया।

प्रिय मित्रों: 
अगर आप एक अच्छे लेखक है तो आप हमें संपादकीय लिख कर या किसी भी मुद्दे से संबधित अपनी राय, सुझाव और प्रतिक्रियाएं हमारे ई-मेल पर भेज सकते हैं । अगर हमारें संपादक को अपका लेख या मुद्दा सही लगा तो हम आपके मुद्दे को अपने समाचार पत्र एवं वेबसाइटपर प्रकाशित किया जाएगा। आप अपना पूरा नाम,फोटो व स्थान का नाम जरुर लिखकर भेजें। 

Website: https://www.vanimedia.in/

Email: vashishthavani.news@gmail.com

वशिष्ठ वाणी भारत का प्रमुख दैनिक समाचार पत्र हैं, जिसमें हर प्रकार के समसामायिक-राजनीति, कानून-व्यवस्था न्याय-व्यवस्था, अपराध, व्यापार, मनोरंजन, ज्ञान-विज्ञान, खेल-जगत, धर्म, स्वास्थ्य व समाज से जुडे हुये हर मुद्दों को निष्पक्ष रुप से प्रकाशित किया जाता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *