कोरोना के दूसरी लहर से युवाओं का भी जान बचाना मुश्किल

कोरोना के दूसरी लहर से युवाओं का भी जान बचाना मुश्किल

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Corona Virus)की पहली लहर जहां बुजुर्गों के जान की दुश्मन थी, वहीं दूसरी लहर ने युवाओं पर ज्यादा असर डाला. वायरस से लड़ने की क्षमता युवाओं में बुजुर्गों से कहीं ज्यादा होती है, ऐसे में सवाल ये उठता है कि कोरोना वायरस ने 18 से 45 वर्ष की उम्र वालों को कैसे टार्गेट किया होगा? कैसे उन युवाओं की भी जान इस वायरस ने ले ली, जिनको पहले से कोई बीमारी नहीं थी? आपको इस सवाल का जवाब जानकर हैरानी होगी कि युवाओं के अपने मजबूत इम्यून सिस्टम ने ही उनकी जान ले ली. भारत में 18-45 की उम्र वालों में गंभीर लक्षणों को लेकर डॉक्टर का कहना है कि इसके पीछे की वजह युवाओं की प्रतिरोधक क्षमता है.

टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी रिपोर्ट के मुताबिक सायटोकाइन स्टॉर्म नाम की बायलॉजिकल प्रक्रिया इस तरह की मौत की वजह बनती है. होता यूं है कि – वायरस को मारने के लिए शरीर अपनी ही कोशिकाओं और टिश्यु पर हमला करना शुरू कर देता है. ज्यादा उम्र के लोगों के साथ भी यह हो रहा है लेकिन कमजोर इम्यून सिस्टम की वजह से उन पर यह असर जानलेवा नहीं होता, जबकि युवाओं की इम्यूनिटी ज्यादा होने की वजह से उनकी जान पर बन आती है. सीएमआरआई अस्पताल में फेफड़ों का इलाज करने वाले डॉ राजा धर कहते हैं – ‘यह वो युवा है जो सेहतमंद हैं और कुछ ही हैं जो थोड़ी बहुत बीमारियों से पीड़ित भी हैं. पिछले साल के अनुभव से यह पता चलता है कि पिछली बार तो इन्हें हल्की फुल्की बीमारी हुई लेकिन इस बार वह कोविड के सामने हार गए. इसकी एक वजह सायटोकाइन स्टॉर्म है. इसमें सबसे ज्यादा असर फेफड़ों पर पड़ता है, फिर दिल, किडनी और लीवर की बारी आती है. इसलिए इन युवाओं में कोविड के पहले लक्षण सांस लेने में दिक्कत बताई जा रही है.’

ये वो अवस्था है, जिसमें मरीज का अपना ही इम्यून सिस्टम उसके शरीर के लिए घातक हो जाता है. साइटोकिन स्टॉर्म वो स्थिति है, जिसमें इम्यून सिस्टम एंटीजन को नष्ट करने के लिए तेज़ी से अपनी ही कोशिकाओं पर हमला करने लगता है. कई बार ये इतना तेज होता है कि स्वस्थ कोशिकाओं पर हमला होने लगता है, और संक्रमित शरीर इसे झेल नहीं पाता है. ये सिर्फ कोरोना में ही नहीं, किसी भी बीमारी में हो सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *