अफगानिस्तान में बंद नहीं होंगे भारत के मिशन: भारत

अफगानिस्तान में बंद नहीं होंगे भारत के मिशन: भारत

नई दिल्ली: भारत ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि वह अफगानिस्तान में शांति व संपन्नता के लिए लगातार कोशिश करता रहेगा। साथ ही भारत ने इन बातों से भी इन्कार किया है कि वह काबुल, कंधार और मजार-ए-शरीफ स्थित मिशनों को बंद करने जा रहा है। हालांकि हालात को देखते हुए काबुल स्थित दूतावास या दूसरे वाणिज्य दूतावासों में कार्यरत कर्मचारियों की संख्या जरूर कम की जा सकती है।

दूसरी तरफ भारत अफगानिस्तान सरकार और वहां के राजनीतिक दलों से भी लगातार संपर्क बनाये हुए है। विदेश मंत्री एस जयशंकर की बुधवार से शुरू हो रही रूस यात्रा के दौरान भी अफगानिस्तान की स्थिति पर अहम चर्चा होने की संभावना है। अमेरिकी सेना की वापसी के बाद जिस तरह से अफगानिस्तान में अस्थिरता फैली है उसे देखते हुए रूस की भावी भूमिका पर सभी की नजर है।

इस बैठक की अहमियत इसलिए भी है कि हाल में यह खबरें आने लगी हैं कि भारत तालिबान के साथ संपर्क में है। वैसे भारत सरकार ने इससे साफ तौर पर इन्कार किया है, लेकिन माना जा रहा है कि अफगानिस्तान के बदलते हालात को देख कर भारत अपने हितों को लेकर हरसंभव कोशिश में जुटा हुआ है। भारत व तालिबान के बीच संपर्क स्थापित होने को लेकर पाकिस्तान की मीडिया में लगातार खबरें प्रकाशित हो रही हैं।

अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना की वापसी के साथ ही वहां तालिबान के मजबूत होने की भी सूचना है। ऐसे में अगले दो दिनों के दौरान रूस और भारत के विदेश मंत्रियों के बीच होने वाली वार्ता पर भी सभी की नजर रहेगी। जयशंकर की मास्को में रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव से मुलाकात में अफगानिस्तान मुद्दा अहम रहने वाला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *