चौरी चौरा शताब्दी समारोह में राज्यमंत्री, उर्जा एवं प्रभारी मंत्री ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का किया शुभारंभ।

चौरी चौरा शताब्दी समारोह में राज्यमंत्री, उर्जा एवं प्रभारी मंत्री ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का किया शुभारंभ।

  • संवाददाता: रन्धा सिंह

चन्दौली: चौरी चौरा शताब्दी समारोह 2021 के दौरान राज्यमंत्री, उर्जा एवं अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत विभाग उत्तर प्रदेश एवं प्रभारी मंत्री रमाशंकर सिंह पटेल पहुचे चन्दौली जहां दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का किया शुभारंभ, साथ ही चन्दौली जिलाधिकारी संजीव सिंह व प्रशासनिक अधिकारियों ने क्रांतिवीर हीरा सिंह, रघुनाथ सिंह व महगूँ सिंह के मुर्ति पर माल्यार्पण किया गया।

माल्यार्पण के बाद चन्दौली के एनसीसी व स्काउट के छात्र-छात्राओं ने प्रभात फेरी करते हुये वन्दे मातरम् गायन कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम के दौरान यूपी प्रभारी मंत्री रमाशंकर पटेल ने संबोधन के दौरान कहा कि ब्रिटिश शासन को भगाने के लिए देश के नौजवान ने मन बना लिया था। कहा कि देश को आजाद कराना है तो ब्रिटिश शासन को भगाना है इस संकल्प लिया था। कहा कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री जी ने भारत के विभिन्न अंग कश्मीर मे धारा 370 को समाप्त करके ऐतिहासिक कार्य किया गया है, लोग कहते थे यह कार्य संभव नहीं है लेकिन गंगा में जौ बोने का काम हमारे प्रधानमंत्री ने किया।

जम्मू कश्मीर में हुए बदलाव को लेकर वीर सपूतों के सपना को प्रधानमंत्री जी द्वारा स्वतंत्र भारत के इतिहास में अपने बलिदान सपूतों को सच्ची श्रद्धांजलि का कार्य किया। माननीय मंत्री जी ने बताया कि देश आत्मनिर्भर भारत कैसे बने, देश के किसानों की आय दोगुनी कैसे हो, समुचित स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराकर किसानों को मजबूत कराने के उद्देश्य, सड़क का चौड़ीकरण, बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं आसानी से मिले, निर्बाध बिजली मिले इसके लिए निरंतर ऐतिहासिक कदम लिया जा रहा है। कहा कि निराश्रित महिलाओं के बेहतर जीवन शैली को सुधारने के लिए वन रैंक वन पेंशन योजना की घोषणा की इसके साथ शहीदों के नाम से सड़क, स्मारक, शहीदों के नाम से बड़े-बड़े सड़कों के निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है ताकि उनके बलिदान को जन्म जन्मांतर तक भूला नहीं जा सके शहीदों ने देश को स्वतंत्र कराने में अहम भूमिका निभाई है।

साथ सैयदराजा विधायक सुशील सिंह ने संबोधन के दौरान बताया की धानापुर थाना कांड 1942 अद्वितीय कांड था यहां पुलिस एवं स्वाधीनता के दीवारों से आमने-सामने युद्ध हुआ जिसमें थानेदार एवं तीन सिपाहियों की मृत्यु हो गई जिनमें थाने के कुर्सी मेज के साथ जला दिया गया अधजली लाशों को बोरे में भरकर गंगा में प्रवाहित कर दिया गया उक्त कांड में तीन क्रांतिवीर हीरा सिंह, रघुनाथ सिंह व महंगू सिंह को भी प्राणों की आहुति देनी पड़ी। इसके साथ कई लोग हॉस्पिटल में प्राण त्याग दिए इस तरह करके काफी लोगों ने अपने प्राण की आहुति दे दी।

इस अवसर पर गरीबों व पात्र व्यक्तियों के लिए केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं का स्टाल लगाकर छतरी जनता एवं उपस्थित लोगों को योजना के विषय में जानकारी दी गई मौके पर प्राप्त आवेदन पत्रों को रखा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *