पेट की आग बुझाने के लिए इस मासूम को सरेराह दिखाना पड़ रहा है करतब

पेट की आग बुझाने के लिए इस मासूम को सरेराह दिखाना पड़ रहा है करतब

रिपोर्टर। रन्धा सिंह

चन्दौली। पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर- सरकार भले ही बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ का नारा दे रहे ही। लेकिन बेटियां आज भी सरकार के उस नारे को आईना दिखाती नजर आ रही है। चाहे बाल श्रम कानून हो या सर्व शिक्षा अभियान, जमीनी हकीकत सरकार के दावों से बिल्कुल अलग होती है।

ये तस्वीरें पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर की है जहां पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर- सरकार भले ही बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ का नारा दे रहे हो। लेकिन बेटियां आज भी सरकार के उस नारे को आईना दिखाती नजर आ रही है। चाहे बाल श्रम कानून हो या सर्व शिक्षा अभियान, जमीनी हकीकत सरकार के दावों से बिल्कुल अलग होती है।ये तस्वीरें पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर की है जहां पेट की आग बुझाने के लिए इस मासूम को सरेराह करतब दिखाना पड़ रहा है।

जिन हाथों में कलम किताब होना चाहिए उन हाथों में कटोरा देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि सरकार के दावे और सरकारी नुमाइंदों द्वारा उनका अनुपालन कराए जाने की जमीनी हकीकत क्या है। ऐसी तस्वीरें कई शहरों में आमतौर पर देखने को मिल जाती है लेकिन सरकारी महकमा ध्यान देने की बजाय एक दूसरे विभाग की पहल पर नजरे टिकाए रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *