एसडीएम न्यायालय में सैकड़ों फाइले लम्बे समय से पड़ी, निर्धारित कार्यक्रम के तहत धरना-प्रदर्शन

एसडीएम न्यायालय में सैकड़ों फाइले लम्बे समय से पड़ी, निर्धारित कार्यक्रम के तहत धरना-प्रदर्शन

  • संवाददता प्रदीप दुबे

गाजीपुर। भाकपा (माले) खेग्रामस की ओर विभिन्न सवालों को लेकर सेवराई तहसील के करवनिया डेरा स्थित कार्यालय सहित लहना, बसुका, सरैला, गहमर आदि गांवों में पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत धरना-प्रदर्शन किया गया। करवनिया डेरा कार्यालय पर प्रदर्शन को सम्बोधित करते हुए भाकपा (माले) जिला सचिव रामप्यारे राम ने कहा कि सेवराई एसडीएम द्वारा सामंती ताकतों और मंत्री की मजबूत पकड़ के चलते गरीबों की फरियाद नहीं सुनी जा रही है। उनके सवालों को हल करने और समाधान की बात तो छोड़ दीजिए, कोरोना से भय से एसडीएम गरीबों की फरियाद नहीं सुन रहे हैं।

उन्होंने कहा कि पक्की पैमाईश के लिए एसडीएम न्यायालय में सैकड़ों फाइले लम्बे समय से पड़ी है। आदेश न होने से जमीनी विवाद को लेकर रोज ब रोज मारपीट की घटनाएं हो रही है। राह, छवर से लेकर गांव समाज बंजर की जमीनों पर सामंती ताकतों का अवैध कब्जा आम बात हो गई है। लहना गांव के वर्तमान ग्राम प्रधान खुलेआम राह छवर की जमीन पर नव निर्माण करा रहा है तथा डेरी फार्म की जमीन पर अवैध कब्जा कर लिया है। यह सब तहसील प्रशासन की सांठ-गांठ से हो रहा है।

कहा कि प्रशासन तत्काल अवैध कब्जा हटाए, नहीं तो लड़ाई तेज होगी। लाकडाउन की मार झेल रहे छोटे-मोटे दुकानदारों, ठेला, खोमचा लगाकर जीवन-यापन करने वाले सभी परिवारों को 10 हजार रुपया लाकडाउन गुजारा भत्ता देने, अप्रैल में अब तक हुई मौतो को करोना डेथ घोषित कर मृतक आश्रित परिवारों को 10 -10 लाख रुपया मुआवजा देने, अस्पतालो में दवा, आक्सीजन, बेड वेंटिलेटर की व्यवस्था सुनिश्चित कराने के साथ ही हर परिवार को प्रति यूनिट 35 किलो राशन, तेल, मसाला, पौष्टिक आहार देने की मांग की। गोरख राजभर, चंद्रावती देवी, ब्लाक सचिव रामप्रवेश कुशवाहा, रोहित बिंद, महेंद्र पासी, भरथ पासी ने भी अपना विचार व्यक्त किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *