भगवान भी भक्त की चिंता रखते हैं, भगवान स्वतंत्र न होकर भक्तों के अधीन होते: श्री भवानी नन्दन यति महाराज

भगवान भी भक्त की चिंता रखते हैं, भगवान स्वतंत्र न होकर भक्तों के अधीन होते: श्री भवानी नन्दन यति महाराज

संवाददाता प्रदीप दुबे

गाजीपुर: जिस प्रकार मां अपने बच्चों की चिंता और ख्याल रखती है उसी तरह भगवान भी भक्त की चिंता रखते हैं। भगवान स्वतंत्र न होकर भक्तों के अधीन होते हैं। ऐसा ही रविवार को हुआ जब सिद्धपीठ हथियाराम के पीठाधिपति महामंडलेश्वर स्वामी श्री भवानी नन्दन यति महाराज सादात स्थित अपने अनन्य शिष्य पत्रकार कमल किशोर के घर पहुंचे। यहां उन्होंने ऑपरेशन कराकर लम्बे समय से बेडरेस्ट पर चल रहे पत्रकार कमल किशोर की कुशलता पूछा और समूचे परिवार समेत शिष्य-श्रद्धालुओं को अपना आशीर्वाद दिया।

अपने भक्तों की विपत्ति काल में द्रवित होने वाले और सदैव उनके साथ खड़ा रहने वाले हथियाराम के महंत महामंडलेश्वर स्वामी भवानीनन्दन यति ने कहा कि सांसारिक जीवन में पिता-पुत्र, माता-पुत्र या पुत्री, पति-पत्नी वगैरह के संबंध हैं। इसके अलावा संसार में गुरु-शिष्य का संबंध भी है। यह एक ऐसा संबंध है जिसमें सच्चा गुरु और शिष्य दोनों एक दूसरे के प्रति समर्पित होते हैं। इससे पूर्व नगर में प्रवेश करते ही उन्होंने राधा कृष्ण मंदिर में विराजमान राधा कृष्ण प्रतिमा के समक्ष बाकायदे पूजा-अर्चना किया। ततपश्चात वह वरिष्ठ भाजपा नेता शिवानन्द सिंह मुन्ना के नवीन प्रतिष्ठान का वैदिक मंत्रोच्चार के बीच उद्घाटन किया।

इस दौरान योगेश्वर प्रसाद, अंजनी कुमार, मीरा देवी, गायत्री देवी, पीताम्बरा, श्वेता, यश, रत्ना, भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष बृजेन्द्र राय, नागेन्द्र सिंह, योगेन्द्र चौबे, अनिल सोनकर, सन्तोष शर्मा, अरविन्द गुप्ता, अनिल चौबे, ऋषभ सिंह, शुभम सिंह, शाश्वत सिंह, परिधि, मधु सिंह, स्नेहा सिंह, सुरेन्द्र मद्धेशिया, किशन सोनी समेत सैकड़ों श्रद्धालु नर-नारी मौजूद रहे। नगर में उनका जगह-जगह फूल माला और अन्य विधाओं से भव्य स्वागत अभिनन्दन किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *