गायत्री तीर्थ शांतिकुंज हरिद्वार से चलकर वाराणसी पहुँचने पर हुआ भव्य स्वागत

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज हरिद्वार से चलकर वाराणसी पहुँचने पर हुआ भव्य स्वागत

महेश पाण्डेय ब्यूरो चीफ

वाराणसी: आज आपके द्वार पहुँचा हरिद्वार, घर-घर कुंभ, घर-घर संस्कार कार्यक्रम के तहत गायत्री तीर्थ शांतिकुंज हरिद्वार से चलकर वाराणसी पहुँची केन्द्रीय टोली का भव्य स्वागत जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा, वाराणसी ने टोली में सम्मिलित साधकों का किया। टोली में आये टोली नायक रमा शंकर पटेल एवं प्रसेन सिंह जी ने जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा जी के पूजा कक्ष में हरिद्वार से लेकर आये गंगा जल की किट की स्थापना वैदिक मंत्रों के सस्वर उच्चारण के साथ किया।

आपके द्वार पहुँचा हरिद्वार, घर-घर कुंभ, घर-घर संस्कार टोली को सम्बोधित करते हुये कौशल राज शर्मा जिलाधिकारी ने कहां कि ‘‘इस कोरोना काल में शांतिकुंज हरिद्वार ने कुम्भ के दर्शन की परम्परा को घर तक पहुँचाने एवं वितरित पुस्तक में दिये मार्गदर्शन से लोगों को हरिद्वार में आयोजित कुंभ से अपनी आध्यात्मिक भावना को जोड़ने में काफी मदद मिलेगी।

आगे कहा कि जैसे भागीरथ ने गंगा को धरती पर लाकर जन-जन तक पहुँचाने का कार्य किया था उसी तरह गायत्री तीर्थ, शांतिकुंज हरिद्वार वर्तमान समय में कुंभ के उद्देश्यों को घर-घर तक पहुँचाने का भागीरथ प्रयास कर रहा है साथ ही साथ माँ गंगा को जन-जन की पूजा वेदी तक पहुँचा कर माँ गंगा के प्रति लोगों की आस्था जगाने का सराहनीय प्रयास कर रहा है।’’

टोली रथ पर गंगा कीट को जन-जन तक पहुँचाने हेतु उपजोन समन्वयक सुरेशचन्द्र यादव के संयोजन में दिनांक 06.03.2021 को गायत्री शक्तिपीठ नगवा के प्रांगण में गोष्ठी आयोजित की गयी है जहाँ से गायत्री साधक अपने संपर्क क्षेत्रों के अनुरूप गंगा जली कीट प्राप्त कर जन-जन तक पहुँचाने का कार्य करेंगे।


कार्यक्रम का संचालन गंगाधर उपाध्याय मुख्य प्रबन्ध ट्रस्टी (रचनात्मक ट्रस्ट), वाराणसी ने किया। गायत्री तीर्थ, शांतिकुंज हरिद्वार से आयी टोली में रमाशंकर पटेल, प्रसेन सिंह, डी0 पी0 सिंह, जय सिंह (गायक), सुनिल सिंह (सारथी) है।


कार्यक्रम में मुख्य रूप से गंगाधर उपाध्याय, अवधेश सिंह, घनश्याम कर्मयोगी, रमेश आचार्य, श्रीमती सावित्री सिंह एवं राधिका मौर्य ने भी शांतिकुंज हरिद्वार से आयी टोली के स्वागत कार्यक्रम में भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *