(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
Tue. Apr 16th, 2024

”प्रधानमंत्री के लिए किसान अपने परिवार से कम नहीं” राष्ट्रीय अधिवेशन में पेश हुआ राजनीतिक प्रस्ताव

PM

Narendra Modi: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अधिवेशन में शनिवार को एक राजनीतिक प्रस्ताव, ‘विकसित भारत-मोदी की गारंटी’ पारित किया गया जिसमें कई नेताओं ने दक्षिण भारत, किसानों और सिखों के लिए सरकार के विकास कार्यो, सांस्कृतिक-राष्ट्रवाद से संबंधित कदमों और विभिन्न पहल का उल्लेख किया। विभिन्न मांगों को लेकर किसानों के एक वर्ग के विरोध-प्रदर्शनों के बीच, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संकल्प का प्रस्ताव करते हुए अपनी टिप्पणी में कहा कि किसी भी सरकार ने किसानों के हित में इतना काम नहीं किया है जितना प्रधानमत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने किया है। उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री के लिए किसान अपने परिवार से कम नहीं हैं।”

प्रस्ताव में विपक्षी गठबंधन ‘इंडिया’ पर जाति आधारित विभाजनकारी राजनीति में शामिल होने का भी आरोप लगाया गया। इसमें दावा किया किया गया कि इसके विपरीत प्रधानमंत्री मोदी के लिए देश में केवल चार ‘जातियां’ क्रमश: गरीब, किसान, महिलाएं और युवा हैं और वह उनके उत्थान के लिए समर्पित हैं। इसमें कहा गया कि सरकार की पहल ने इन चार ‘जातियों’ को सशक्त बनाया है क्योंकि वे इसकी हर योजना के केंद्र में हैं। सिंह ने विपक्ष पर भी निशाना साधते हुए दावा किया कि पिछले 10 वर्षों में सत्तारूढ़ गठबंधन ने देशभर से जो सम्मान मिला है, वह अभूतपूर्व है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण पर चर्चा करते हुए मोदी के नेतृत्व की सराहना की। उन्होंने कहा कि इस उपलब्धि ने पांच शताब्दियों से अधिक समय से भक्तों का इंतजार खत्म कर दिया है, जिससे सनातन धर्म के अनुयायियों को खुशी मिली है। प्रस्ताव में देश की सनातन संस्कृति का सम्मान करने के लिए सरकार की सराहना की गई।

पूरा भारत मंडपम ‘जय श्री राम’ और ‘मोदी जी को जय श्री राम’ के नारों से गूंज उठा

आदित्यनाथ ने कहा कि मोदी की गारंटी विकसित भारत की गारंटी है और केंद्र सरकार के कल्याणकारी कदमों का लाभ जाति, क्षेत्र या धर्म के आधार पर भेदभाव किए बगैर समाज के सभी वर्गों तक पहुंचा है। उन्होंने जब मंदिर निर्माण का उल्लेख किया तो देश भर से आए 11,500 से अधिक पार्टी प्रतिनिधियों ने तालियां बजाईं और ‘मोदी है तो मुमकिन है’ का नारा भी लगाया गया। यह एक ऐसा मुद्दा है जो भाजपा कार्यकर्ताओं के दिल के करीब है। भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने भी जब अपने संबोधन में राम मंदिर का उल्लेख किया तो पूरा भारत मंडपम ‘जय श्री राम’ और ‘मोदी जी को जय श्री राम’ के नारों से गूंज उठा। area Modi: 

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रस्ताव का समर्थन किया और दुनिया भर की अर्थव्यवस्थाओं में मंदी के बीच भारत की संपन्न अर्थव्यवस्था की ओर वैश्विक टकटकी पर प्रकाश डाला। मोदी के आग्रह पर उन्होंने तमिल और तेलुगू में भी बात की। उन्होंने कहा कि भारत इस समय प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में सबसे तेज गति से बढ़ रहा है और दुनिया भर में निवेश का झुकाव भारत की ओर है जो पिछले दशक में एक ‘महत्वपूर्ण’ उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के कार्यकाल में भारतीय अर्थव्यवस्था जहां ‘सबसे कमजोर पांच’ में शामिल थी उसे प्रधानमंत्री मोदी ने शीर्ष पांच में पहुंचा दिया जो भारत के विकास को दर्शाता है।

प्रस्ताव में कहा गया है कि सरकार के तहत कृषि बजट पिछली कांग्रेस के नेतृत्व वाले संप्रग सरकार के दौरान लगभग पांच गुना बढ़कर 1.25 लाख करोड़ रुपये हो गया। इसमें न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) व्यवस्था के तहत अनाज की रिकॉर्ड खरीद के अलावा किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसानों को 2.8 लाख करोड़ रुपये के हस्तांतरण पर भी प्रकाश डाला गया है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रस्ताव में अपने प्रस्तावित संशोधनों में करतारपुर गलियारा खोले जाने का जिक्र किया जिससे सिख श्रद्धालुओं को पाकिस्तान स्थित इस गुरुद्वारे में शीश झुकाने और अरदास करने का मौका मिला।

केंद्रीय मंत्री एल मुरुगन ने दक्षिण भारत के लिए सरकार द्वारा किए गए कई विकास कार्यों का उल्लेख किया और कहा कि भाजपा वास्तव में एक राष्ट्रीय पार्टी बन गई है क्योंकि अब तमिलनाडु में इसके विधायक हैं और तेलंगाना में इसकी महत्वपूर्ण उपस्थिति है। झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने स्कूलों, सड़कों और विद्युतीकरण सहित आदिवासी क्षेत्र में सरकार की कल्याणकारी पहलों का जिक्र करते हुए कहा कि इन दूरदराज के इलाकों में रहने वाले लोगों के जीवन में काफी बदलाव आया है।

राजनाथ सिंह ने उठाया संदेशखाली का मुद्दा

राजनाथ सिंह ने कहा कि भारतीय राजनीति में विश्वसनीयता के संकट की चुनौती को अगर किसी ने सिर उठाकर चुनौती दी है तो वह मोदी हैं। रक्षा मंत्री ने कहा कि वह जो कहते हैं, वह उसे पूरा करते हैं। भाजपा के पूर्व अध्यक्ष ने पश्चिम बंगाल के संदेशखालि में कई महिलाओं द्वारा राज्य की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों के खिलाफ लगाए गए आरोपों को लेकर उपजे विवाद के बारे में भी बात की, जिसमें कहा गया है कि उन्होंने उनका यौन उत्पीड़न किया और बड़े पैमाने पर जमीन हड़प ली है। उन्होंने कहा कि यह किसी भी सभ्य समाज के लिए कलंक है।

राजनाथ सिंह ने यूक्रेन सहित विदेशों से अपने नागरिकों को बचाने के सरकार के प्रयासों और कतर की जेल में बंद पूर्व नौसेना कर्मियों की हाल में घर वापसी का उल्लेख किया और कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों के विपरीत, दुनिया अब मोदी सरकार के साथ ही भारत को भी सुनती है। उन्होंने कहा कि लोगों को विश्वास है कि मोदी हमेशा उनकी मदद करेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘मोदी ने लोगों को नई आशा और विश्वास से भर दिया है, इसलिए उन्होंने भाजपा को और अधिक जनादेश देने का मन बना लिया है। हमें नरेन्द्र मोदी को लगातार तीसरे कार्यकाल के लिए भारत का प्रधानमंत्री बनाना है।” उनके विचारों का समर्थन करते हुए आदित्यनाथ ने कहा कि भारत और भारतीयों को अब विश्व स्तर पर अधिक सम्मान मिलता है और देश ने अपनी सीमाओं को सुरक्षित कर लिया है जबकि इसकी आंतरिक सुरक्षा भी मजबूत हुई है। प्रस्ताव में कहा गया कि ज्यादातर सरकारों को एक या दो उपलब्धियों का श्रेय दिया जाता है, लेकिन वर्तमान सरकार के कार्यकाल में सैकड़ों ऐतिहासिक पहल की गईं, जिससे लोगों के जीवन स्तर में सुधार हुआ है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *