(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
Tue. Apr 16th, 2024

Farmer Protest: कौन था 21 साल का युवा किसान शुभकरण सिंह? किसान नेताओं ने किया सिर पर मारी गोली मारने का दावा 

Farmer Protest:  किसान आंदोलन में एक नौजवान किसान शुभकरण सिंह की मौत की खबर सामने आई है. किसान नेता सरवण सिंह पंधेर ने दावा किया है कि उसे जवानों ने गोली मारी है.

पंजाब और हरियाणा के शंभू और खनौरी बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी है. बुधवार किसानों के दिल्ली कूच के दौरान हुई हिंसा में एक किसान की मौत हो गई है. पंजाब के बठिंडा जिले के बालोके गांव के निवासी शुभकरण सिंह नामक किसान की सुरक्षाकर्मियों और प्रदर्शनकारी किसानों के बीच झड़प के बाद मौत हो गई और कुछ अन्य घायल हो गए. किसान नेता सरवण सिंह पंधेर ने एक फोटो जारी करते हुए दावा है कि खनौरी बॉर्डर पर जवानों ने ही शुभकरण सिंह के सिर पर गोली मारी है. तस्वीर में जवान फायरिंग करते हुए नजर आ रहे हैं. 

कौन था युवा किसान शुभकरण सिंह?

मारे गए किसान का नाम शुभकरण सिंह हैं. वह पंजाब के बठिंडा जिले के बालोके गांव का रहने वाले थे. उनके परिवार में दो बहनें, एक दादी और उनके पिता चरणजीत सिंह हैं, जो स्कूल वैन ड्राइवर के रूप में काम करते हैं. शुभकरण पशुपालन से जुड़ा था और उसके पास लगभग 3 एकड़ जमीन थी. इसके अलावा उन्होंने कुछ जानवर भी पाले हुए थे.  

सुबह खुद नाश्ता बनाया

शुभकरण सिंह 13 फरवरी को खनौरी सीमा पर प्रदर्शनकारी किसानों में शामिल हो गए थे. किसानों ने अपनी 10 मांगों को लेकर अपना आंदोलन शुरू किया था. रिपोर्ट के मुताबिक, कल शुभकरण ने पंजाब-हरियाणा सीमा के पास विरोध स्थल पर अपने और अन्य किसान साथियों के लिए नाश्ता तैयार किया. शुभकरण के एक दोस्त ने बताया कि बैठकर नाश्ता करते समय शुभकरण ने कहा था कि उन्हें  फिर से एक साथ भोजन  करने या एक साथ बैठने का दूसरा मौका नहीं मिलेगा.

राहुल गांधी ने बीजेपी को घेरा

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और पार्टी नेता राहुल गांधी ने शुभकरण सिंह की मौत पर शोक व्यक्त किया है. राहुल गांधी ने कहा कि इतिहास निश्चित रूप से भाजपा से किसानों की हत्याओं का हिसाब मांगेगा. इस बीच, शुभकरण की मौत के बाद किसान नेताओं ने ‘दिल्ली चलो’ मार्च दो दिन के लिए रोक दिया है. वे शुक्रवार (23 फरवरी) को विरोध प्रदर्शन शुरू करेंगे. किसान नेता सरवण पंधेर ने कहा कि 2 दिन हम रणनीति बनाएंगे. किसानों ने खनौरी बॉर्डर पर युवा किसान शुभकरण सिंह की मौत और तनावपूर्ण हालात के बाद ये फैसला लिया है.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *