फर्जी एमबीबीएस डॉक्टर गिरफ्तार

फर्जी एमबीबीएस डॉक्टर गिरफ्तार

कूटरचित डिग्री के सहारे MD, MBBS बताकर करता था ओपीडी

संवाददाता।। रन्धा सिंह

चन्दौली। सदर कोतवली पुलिस ने एक फर्जी डॉक्टर को गिरफ्तार कर मामले का खुलासा किया है। डॉक्टर ने अपने आप को एमबीबीएस-एमडी बता कर डॉक्टरी कर रहा था। शक होने पर अस्पताल प्रबंधक ने उक्त डॉक्टर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया। जिसके आधार पर जाँच उपरांत डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया गया। जिले के एक निजी नर्सिंग होम के प्रबंधक पंकज पाण्डेय ने चन्दौली थाने में शक के आधार पर एक मुकदमा दर्ज कराया था।

प्रबंधक के अनुसार बीते जनवरी उनके नर्सिंग होम में शैलेश चंद्र वर्मा नामक एक व्यक्ति आया, जिसने अपने आप को एक एमबीबीएस/एमडी बता कर काम मांगा। उसके डिग्री के अनुसार नर्सिंग होम प्रबंधक ने अग्रीमेंट बना कर शैलेश चंद्र वर्मा को अपने यहां काम पर रख लिया। शैलेश चंद्र वर्मा उक्त नर्सिंग होम में ओपीडी का काम देखने लगा। इसी बीच शैलेश चंद्र वर्मा के काम को देख कर बाकी डॉक्टरों को संदेह हुआ जिसकी शिकायत हॉस्पिटल के प्रबंधक को किया गया।

डॉक्टरों की शिकायत पर प्रबंधक द्वारा मामले की जांच की गई तो पता चला कि शैलेश चंद्र वर्मा की डिग्री फर्जी है जिसकी शिकायत प्रबंधक ने चन्दौली कोतवाली पुलिस को कर उक्त फर्जी डॉक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस मामला दर्ज कर पुलिस ने चन्दौली के संजय नगर से अभियुक्त डॉक्टर को गिरफ्तार कर पुलिस ने पूछताछ किया तो अभियुक्त ने बताया कि वह नर्सिंग होम में फर्जी प्रमाण पत्र बनवाकर ओपीडी का काम कर रहा था।

अभियुक्त ने ये भी बताया कि इससे पहले वह गोरखपुर, बिहार सहित अन्य जगहों पर भी फर्जी प्रमाण पत्र देकर काम कर चुका है। मामले का खुलासा करते हुए ए एसपी चन्दौली ने बताया कि गिरफ्तार फर्जी डॉक्टर मूल रूप से गोरखपुर निवासी है जिसका हाल का पता देवरिया है।

पुलिस ने बताया कि एफआईआर के अनुसार अभियुक्त को प्रबंधक द्वारा 2 लाख 40 हज़ार एडवांस दिया गया था तथा प्रति माह 60 हज़ार देने की बात की गई थी। बहरहाल पुलिस ने बताया कि अभियुक्त को संवंधित धाराओं में जेल भेजा जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *