आज भी गांव में बिजली, सड़क, आवास शिक्षा से वंचित नजर आ रहे हैं

आज भी गांव में बिजली, सड़क, आवास शिक्षा से वंचित नजर आ रहे हैं

  • हद तो तब हो गई जब गांव में लोगों को पीने के लिए हैंड पंप भी नहीं

संवाददाता रन्धा सिंह

चन्दौली। भाजपा सरकार के मंत्री विधायक भले ही मंच हो या प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकार के द्वारा किए जा रहे विभिन्न कार्यों का ढिंढोरा पीटते नजर आते हैं और विकास के मामले में अपनी सरकार की दुहाई देते लोगों के बीच में नजर आते हैं । लेकिन वास्तविकता कुछ और ही नजर आ रही है। आज हम आपको एक ऐसी तस्वीर दिखाएंगे जहा देख कर आपको खुद शर्म महसूस होगा।

तस्वीर यूपी के जनपद चंदौली के चकिया की है जहां आजादी के 7 दर्शक व्यतीत होने के बाद भी तस्वीरें ज्यों की त्यों पड़ी हुई है लो आज भी गांव में बिजली कड़क आवास शिक्षा से वंचित नजर आ रहे हैं। हद तो तब हो गई जब गांव में लोगों को पीने के लिए हैंड पंप भी नहीं जनप्रतिनिधि व अधिकारियों के द्वारा लगवाए गए हैं जो लगे भी हैं वह मरम्मत के अभाव में पूर्ण तरीके से क्षतिग्रस्त हो चुके हैं और गांव की शोभा बढ़ाते नजर आ रहे ऐसे में ग्रामीण नदी की पानी पीने पर विवश हुआ मजबूत होते नजर आ रहे हैं तस्वीर में आप साफ़ देख सकते हैं कि किस प्रकार ग्रामीण नदी से पानी भरकर घर ले जा रहे हैं ।

हद तो तब हो गई जब मंत्री जी से पूछे जाने पर उन्होंने आसपास ऐसी गांव का होना जनपद में इंकार करते हुए नजर आए लेकिन कैमरे के सामने मंत्री जी का यू-टर्न होना भी मजबूरी बनता नजर आया उन्होंने बताया कि जनपद में ऐसा कोई गांव नहीं बचे है कुछ कुड़वे मझरे गांव जनपद में बच्चे भी हैं तो सौभाग्य योजना के तीसरे फेस का दुहाई देते हुए बताया कि इस योजना के तहत घर घर बिजली पहुंचाएंगे और 2022 से पूर्व में और हर गांव में 24 घंटे बिजली की व्यवस्था करेंगे।

अब सवाल ये उठता है जब मंत्री जी खुद ही पूर्व में बोल चुके हैं कि जनपद में ऐसा कोई गांव नहीं बचा है जो गांव में सड़क बिजली सहित अन्य व्यवस्था ना हो तो ऐसे में गांव में विकास कार्य कैसे होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *