वन विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत से कट रहे दर्जनों हरे पेड़

वन विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत से कट रहे दर्जनों हरे पेड़

विभाग की इस लापरवाही से प्राकृतिक संपदा के नष्ट होने के आसार
  • संवाददाता रन्धा सिंह

चन्दौली। चकिया थाना क्षेत्र के मुबारकपुर ग्राम सभा के आसपास के जंगलों में मौजूद सागौन के हरे पेड़ दर्जनों की संख्या में हरे पेड़ों को काटा जा रहा है। वन विभाग को भनक तक नही लगी। जानकारी के अनुसार मुबारकपुर बीट स्थित सागौन के जंगलों में हरे पेड़ों की लकड़ी तस्करों व वन विभाग की मिली भगत से धड़ल्ले से हो रही है पेड़ो की कटाई। जानकारी मिलने के बाद वन विभाग के अधिकारी कुंभकरण निद्रा में सोये रहते हैं। जिससे प्राकृतिक वन संपदा के नष्ट होने के गंभीर खतरा उत्पन्न हो गया है।

बतादे कि वन विभाग में होने वाले तस्करी व वन संपदा की रक्षा के लिए वन विभाग द्वारा क्षेत्र को कई हिस्सों में बांटकर जिम्मेदार अधिकारियों व अन्य कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। इसके बावजूद भी सागौन के पेड़ आए दिन भारी संख्या में कट रहे हैं जिसका कोई पुरसाहाल नहीं है अधिकारी स्वयं गुड वर्क करके अपनी ही पीठ थपथपा रहे हैं। और यहां जंगलों के नष्ट होने का गंभीर खतरा उत्पन्न हो गया है। जिसको लेकर क्षेत्रवासियों ने आक्रोश व्यक्त किया है। वही इस संबंध में मुबारकपुर क्षेत्र के जिम्मेदार वन अधिकारी से बात करने पर उन्होंने पूरे मामले की लीपापोती का प्रयास किया और मामले को ही खारिज करने का प्रयास करते हुए नजर आ रहे हैं जबकि अगर पेड़ काटता है तो सीधे-सीधे इसके लिए चकिया रेजर ही जिम्मेदार माने जाएंगे, वही मामले की जानकारी पत्रकारों द्वारा देने पर चकिया रेंजर इकबाल बहादुर सिंह घटना को गंभीरता से ना लेकर उल्टे मामले को सिरे से खारिज करते हुए नजर आए।

सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि यदि वन संपदा की रक्षा के लिए जिम्मेदार अधिकारी ही मामले को संज्ञान में आने के बावजूद इस प्रकार का रवैया अपनाएंगे तो किस प्रकार क्षेत्र के वन संपदा की रक्षा हो सकेगी क्योंकि जब रक्षक ही भक्षक की भूमिका में हो जाए तो फिर इसकी जिम्मेदारी किसको दी जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *