Fri. Feb 23rd, 2024

WhatsApp और Telegram को दिल्ली हाईकोर्ट ने दिया निर्देश, अब अकाउंट्स पर होगी कार्रवाई

WhatsApp and Telegram

WhatsApp and Telegram news: दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को WhatsApp और टेलीग्राम को उन अकाउंट्स को सस्पेंड करने का आदेश दिया है, जो वेंचर कैपिटल फर्म पीक XV और सिकोइया कैपिटल के नाम पर लोगों को धोखा दे रहे हैं. कोर्ट ने यह आदेश ऑनलाइन सामने आए वित्तीय घोटालों के बाद दो वेंचर कैपिटल फर्मों की तरफ से दायर मुकदमों के बाद दिया है, जिसमें दोनों फर्मों के नाम पर पर लोगों को लाखों-करोड़ों रुपये का चूना लगाने का आरोप लगाया गया है.

पीक XV और अमेरिका स्थित सिकोइया कैपिटल ने 22 जनवरी, 2024 को दिल्ली हाई कोर्ट के समक्ष अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ अलग-अलग मुकदमे दायर किए. दोनों कंपनियों में मुकदमों में आरोप लगाया है कि उनके नाम नाम से चलाए जा रहे फर्जी WhatsApp और टेलीग्राम अकांउट के जरिए वेंचर कैपिटल संबंधी फर्जी सलाह देकर लोगों के साथ ठगी की जा रही है.

ठगी का धंधा

पीक XV को पहले सिकोइया कैपिटल इंडिया के नाम से जाना जाता था, जोकि बाद में अमेरिकी मूल-सिकोइया कैपिटल से अलग होकर एक इंडिपेंडेंट यूनिट के रूप में कार्य करने लगी. बेंगलुरु स्थित यह वेंचर कैपिटल फर्म 400 से अधिक स्टार्टअप्स में निवेश के साथ 13 फंड्स में 9.2 अरब डॉलर से ज्यादा को मैनेज करती है, जिसमें BYJU’s, भारतपे, अपना, कार्स 24, CRED, मामाअर्थ, एमपीएल, ओला, ओयो और पाइन लैब्स जैसी यूनिकॉर्न कंपनियां शामिल हैं.

स्टॉक ट्रेडिंग टिप्स दे रहे अकाउंट

पीक XV को दिसंबर 2023 में घोटाले के बारे में सतर्क किया गया था, जब उसके नाम से मिलते जुलते नाम ‘पाक XV’ से चल रहे एक मोबाइल ऐप के बारे में पता चला था. जिसने पीक XV के ब्रांड और ट्रेडमार्क का भी गैरकानूनी ढंग से इस्तेमाल किया था.

लोगों को झांसा देने के लिए फर्जी वेबसाइट और एप्लिकेशन पर कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट के कंटेंट को चुरा कर डाला गया था. इन फर्जी वेबसाइट और एप्लिकेशनों के जरिये जालसाज कंपनी के कर्मचारी बनकर लोगों को स्टॉक ट्रेडिंग टिप्स पर वेबिनार आयोजित करने के नाम पर अपने जाल में फंसा रहे थे.

इसी तरह सिकोइया कैपिटल को सितंबर 2023 में “जॉन एनालिस्ट ग्रुप-303” नाम के एक WhatsApp ग्रुप के बारे में सूचित किया गया था, जिसे ऐसे व्यक्ति चला रहे थे, जो खुद को सिकोइया कैपिटल ग्रुप की सिकोइया कैपिटल इन्वेस्टर्स एडवाइजर और सिकोइया कैपिटल बीटीसी ट्रेडिंग टीम के के रूप में पेश करते थे.

24 जनवरी को सुनवाई

हाईकोर्ट में ये मुकदमे 24 जनवरी को सुनवाई के लिए आए, जिसके बाद दिल्ली उच्च न्यायालय ने मामले पर विचार करने के बाद इन अकाउंट्स को निलंबित करने का आदेश पारित किया.

इन मुकदमों में याचिकाकर्ताओं की ओर से कहा गया है कि अपराधी बाजार में पीक XV और सिकोइया कैपिटल की साख का फायदा उठा कर भोले भाले लोगों को फर्जी निवेश के जाल में फंसा रहे हैं. अदालत ने प्लेटफार्म्स को इन अकाउंट्स को निलंबित करने के साथ ही इन फर्जी अकाउंट्स को चलाने वालों के खिलाफ जांच में अधिकारियों की सहायता करने का भी निर्देश दिया है. साथ ही अदालत ने इस फर्जीवाड़े पर अंकुश लगाने के लिए उचित निर्देश जारी करने का निर्देश दिया है.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *