सेनानायक 34वीं/36वीं वाहिनी पीएसी वाराणसी द्वारा प्रशिक्षणार्थियों के दीक्षांत परेड की सलामी एवं प्रशिक्षणार्थियों को शपथ दिलाई गई

सेनानायक 34वीं/36वीं वाहिनी पीएसी वाराणसी द्वारा प्रशिक्षणार्थियों के दीक्षांत परेड की सलामी एवं प्रशिक्षणार्थियों को शपथ दिलाई गई

191 रिक्रूट आरक्षी नागरिक पुलिस प्रशिक्षण सकुशल संपन्न कराया गया।

महेश पाण्डेय ब्यूरो चीफ

आज दिनांक 5 मार्च 2021 को 36वी वाहिनी पीएसी रामनगर वाराणसी के प्रांगण में पुलिस प्रशिक्षण निदेशालय उत्तर प्रदेश लखनऊ के आदेशानुसार दिनांक 28 अगस्त 2020 से इस वाहिनी में प्रचलित आरटीसी जिसमें जनपद लखनऊ से कुल 86 रिक्रूट आरक्षी जनपद रायबरेली से 39, जनपद गाजीपुर से 168 एवं जनपद चंदौली से 14 कुल 191 रिक्रूट आरक्षी नागरिक पुलिस आधारभूत प्रशिक्षण हेतु आगमन किए थे जिनका 6 माह तक आधारभूत प्रशिक्षण सकुशल संपन्न कराया गया।


इस प्रशिक्षण कार्यक्रम हेतु प्रशिक्षण निदेशालय वाहिनी द्वारा आईटीआई, पीटीआई व अध्यापकों को नियुक्त किया गया था। इनके अतिरिक्त प्रशिक्षण में गुणवत्ता लाने हेतु समय-समय पर बाहर से भी विधि विज्ञान प्रयोगशाला, फायर सर्विस रेडियो शाखा व कंप्यूटर प्रवक्ताओं द्वारा प्रशिक्षण प्रदान कराया गया। साथ ही समस्त प्रशिक्षुओं को बैरक, बेड, भोजनालय, शौचालय आरओ, जनरेटर आदि मूलभूत सुविधाओं की समुचित व्यवस्था उपलब्ध करायी गयी। निर्धारित पाठ्यक्रम के अनुसार प्रशिक्षण प्रदान कराने के उपरांत एवं बाहय व आंतरिक विषयों की परीक्षा कराई गई जिसमें सभी 191 प्रशिक्षु आरक्षी उत्तीर्ण हुए।

2 1


उपरोक्त कार्यक्रम के अवसर पर मुख्य अतिथि के रुप में डॉक्टर राजीव नारायण मिश्र, सेनानायक 34वीं/ 36वीं वाहिनी पीएसी वाराणसी सादर आमंत्रित थे जो सपत्निक कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। मुख्य अतिथि द्वारा प्रशिक्षणार्थियों के दीक्षांत परेड की सलामी एवं मान प्रणाम ग्रहण करते हुए प्रशिक्षणार्थियों को शपथ दिलाई गई। मुख्य अतिथि डॉ राजीव नारायण मिश्र, आईपीएस सेनानायक द्वारा आशीर्वचन देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता वाहिनी के उप सेनानायक राकेश कुमार सिंह द्वारा की गई, जिन के सहयोग हेतु वाहिनी के शिविरपाल धर्मेंद्र सिंह, दलनायक अजीत सिंह, सूबेदार मेजर कैलाश नाथ सिंह एवं वाहिनी के अधिकारी व कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

1
समस्त कार्यक्रमों का कवरेज ड्रोन कैमरे के माध्यम से कराया गया जिसके गवाह प्रशिक्षु आरक्षियों के परिजन एवं दर्शक व मीडिया के बंधु रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *