गांव-गांव कैम्प लगाकर नि:शुल्क बनाए जाएंगे ‘आयुष्मान कार्ड’

गांव-गांव कैम्प लगाकर नि:शुल्क बनाए जाएंगे ‘आयुष्मान कार्ड’

  • 24 मार्च तक मनाया जाएगा आयुष्मान पखवाड़ा
  • आयुष्मान कार्ड विहीन परिवारों के कार्ड बनवाने पर होगा ज़ोर

महेश पाण्डेय ब्यूरो चीफ

वाराणसी: जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा के निर्देशन में जिले में बुधवार 10 मार्च से प्रत्येक ग्राम सभा में आयुष्मान कार्ड (गोल्डन कार्ड) कैम्प लगाकर लोगों के नि:शुल्क आयुष्मान कार्ड बनाए जाएंगे। इसी संबंध में मंगलवार को विकास भवन कार्यालय सभागार में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ वीबी सिंह एवं जिला विकास अधिकारी राजेश यादव की उपस्थिती में पखवाड़े की पूर्व तैयारियों को लेकर बैठक सम्पन्न की गयी ।

बैठक में कुछ अहम निर्णय लिए गए जैसे पहला -जन सेवा केंद्र के मैनेजर यह सुनिश्चित करें कि उनके वीएलई द्वारा निर्धारित कैम्प स्थलों पर लाभार्थियों का गोल्डन कार्ड निःशुल्क बनाया जायेगा। समस्त खण्ड विकास अधिकारी विकास खण्ड स्तर पर एक नोडल अधिकारी नामित करेंगे जो अपने क्षेत्रान्तर्गत लाभार्थियों का गोल्डन कार्ड बनवाने में आवश्यक सहयोग करेंगे एवं उसका प्रतिदिन फीडबैक भी प्राप्तकर खण्ड विकास अधिकारी को सूचित करेंगे।

विकास खण्डस्तर पर नामित नोडल अधिकारी पंचायती राज विभाग, ग्राम्य विकास विभाग, आईसीडीएस, राजस्व विभाग आदि विभागों के सहयोग से लाभार्थियों की पहचान एवं उनका गोल्डन कार्ड बनवाने में सहयोग प्रदान करेंगे।


दूसरा – समस्त अधीक्षक/प्रभारी चिकित्साधिकारी एवं सीडीपीओ, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के माध्यम से आयुष्मान पखवाड़ा का व्यापक प्रचार-प्रसार करायेंगे तथा सूची के अनुसार लाभार्थियों को पर्ची देते हुए उन्हें कैम्प स्थल पर जाने के लिए प्रेरित करेंगी । गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए आशा एवं आंगनबाड़ी को प्रोत्साहन राशि साचीज द्वारा पखवाड़े के समाप्ति उपरान्त प्रदान की जायेगी। कैम्प स्थल पर बिजली, पानी व इण्टरनेट की व्यवस्था कैम्प स्थल के अनुसार अधीक्षक/प्रभारी चिकित्साधिकारी/खण्ड विकास अधिकारी द्वारा सुनिश्चित की जायेगी। सूची में शामिल पात्र लाभार्थियों को कोटेदार द्वारा इस सम्बन्ध में आवश्यक कार्यवाही करते हुए गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए प्रेरित किया जायेगा। रोजगार सेवक के माध्यम से भी आयुष्मान लाभार्थियों का गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए आवश्यक सहयोग लिया जायेगा।


तीसरा – शहरी क्षेत्र में पार्षद गण अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत तथा शहरी प्रभारी चिकित्साधिकारी आशा के माध्यम से आयुष्मान पखवाड़ा का व्यापक प्रचार-प्रसार करायेंगे तथा सूची के अनुसार लाभार्थियों को पर्ची देते हुए उन्हें कैम्प स्थल पर जाने के लिए प्रेरित करायेंगे। नगर निगम के जोनल अधिकारी अपने स्तर से अपने-अपने क्षेत्र में पार्षद के माध्यम से पात्र लाभार्थियों का गोल्डन कार्ड बनवाने में आवश्यक सहयोग प्रदान करेंगे तथा बनाये गये गोल्डन कार्ड की प्रतिदिन की रिपोर्ट नगर स्वास्थ्य अधिकारी, वाराणसी को उपलब्ध करायेंगे।


चौथा – सघन अभियान के दौरान लक्षित लाभार्थी परिवारों को योजना के प्रति जागरूक कर उन्हें आयुष्मान कार्ड कैम्प तक लाने का प्रयास आशा-आंगनबाड़ी कार्यकर्ता द्वारा किया जाएगा । पात्र लाभार्थियों के आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे ।


इस मौके पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि योजना के तहत जिले में आयुष्मान कार्ड विहीन लाभार्थी परिवारों को लक्षित कर इस पखवाड़े में आयुष्मान कार्ड बनवाने पर पूरा ज़ोर दिया जाएगा । इसी उद्देश्य से 10 से 24 मार्च तक अभियान चलाकर प्रत्येक ग्राम सभा में आयुष्मान कार्ड कैंप लगाकर जन सेवा केन्द्रों के माध्यम से समस्त पात्र लाभार्थियों के कार्ड निःशुल्क बनाए जाएंगे । उन्होने बताया कि आयुष्मान कार्ड उन्हीं लाभार्थियों के बनाए जाएंगे जिनके नाम सामाजिक आर्थिक जनगणना-2011 की सूची में है और जिनके पास आयुष्मान भारत का प्रधानमंत्री या मुख्यमंत्री का पत्र है। आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना तथा मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान से आच्छादित परिवारों को प्रति वर्ष प्रति परिवार पांच लाख रुपए तक के नि:शुल्क उपचार की व्यवस्था की गयी है। लेकिन इसका लाभ उठाने के लिए योजना के पात्र लाभार्थी के पास आयुष्मान कार्ड होना जरूरी है।


आयुष्मान पखवाड़ा कुछ खास बातें
आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए पूर्व में लाभार्थियों से 30 रुपए प्रति कार्ड शुल्क के रूप में लिया जाता था। इसके कारण लाभार्थियों ने कार्ड बनवाने में रुचि नहीं ली थी। इसको ध्यान में रखते हुए निर्णय लिया गया है कि कॉमन सर्विस सेंटर यानि जन सेवा केन्द्रों (सीएससी) द्वारा पात्र लाभार्थियों का आयुष्मान कार्ड निःशुल्क बनाया जाएगा।
आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए लाभार्थी परिवार के मुखिया को एक दिन पहले ही आशा/आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के माध्यम से एक पर्ची उपलब्ध करा दी जाएगी जिसमें कार्ड बनाने का समय और स्थान दिया रहेगा।
आयुष्मान कार्ड कैंप ग्रामीण क्षेत्र में पंचायत भवन/हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर एवं शहरी क्षेत्र में शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर लगाए जाएंगे।
कैंप में लाभार्थी परिवार के सभी सदस्यों का निःशुल्क आयुष्मान कार्ड बनाया जाएगा।
कैंप में वृहद स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जाएगा जिससे शत-प्रतिशत आयुष्मान कार्ड बनाए जा सकें और लाभार्थियों को कैंप के बारे में जानकारी भी मिल सके।


एक नजर जनपद के आंकड़ों पर
जिले में प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत कुल 1,14,419 लाभार्थी परिवार एवं मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान के तहत कुल 19,817 लाभार्थी परिवार हैं। इन लाभार्थी परिवारों में से जिले में अब तक प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत कुल 2,58,816 एवं मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान के तहत कुल 6563 आयुष्मान कार्ड बन चुके हैं। जिले में अब तक कुल 33559 ऐसे लाभार्थी परिवार हैं जिनमें से एक भी सदस्य का आयुष्मान कार्ड नहीं बना है । इसमें प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत कुल 20,305 एवं मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान के तहत 13254 लाभार्थी परिवार हैं । जिले में अब तक कुल 155 चिकित्सालय आयुष्मान भारत योजना में सूचीबद्ध हैं। इनमें से 23 निजी चिकित्सालय और 132 सरकारी चिकित्सालय हैं । जिले में 50209 लाभार्थियों का अब तक योजना के तहत इलाज किया जा चुका है।


इस अवसर पर एसीएमओ डॉ एके मौर्य, एसीएमओ डॉ एसएस कनौजिया, योजना के नोडल अधिकारी एवं डिप्टी सीएमओ डॉ पीके राय, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एनपी सिंह, समस्त ब्लॉक के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी, नगर स्वास्थ्य समन्वयक आशीष सिंह, सीडीपीओ नगर मनोज कुमार गौतम, समस्त ब्लॉक के स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी (एचईओ), आयुष्मान भारत की जिला कार्यान्वयन इकाई से डीपीसी डॉ पूजा जायसवाल, डीआईएसएम नवेन्द्र सिंह, डीजीएम सागर गुप्ता, सीएससी के जिला प्रबन्धक अरविंद मौर्य, बीडीओ एवं स्वास्थ्य विभाग के अन्य सदस्य मौजूद रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *