(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
Tue. Apr 16th, 2024

Antilia Case के आरोपी सचिन वाजे ने जेल में मांगा लैपटॉप, स्पेशल कोर्ट में की ये डिमांड

Antilia Case accused Sachin Waje: Antilia Case: एंटीलिया बम कांड और कारोबारी मनसुख हिरेन हत्या मामले में जेल में बंद आरोपी सचिन वाजे ने अंग्रेजी और मराठी में किताबें लिख दी हैं. पूर्व पुलिसकर्मी ने स्पेशल कोर्ट में एक याचिका दायर की है और खास डिमांड की है.

एंटीलिया बम केस और कारोबारी मनसुख हिरेन मर्डर केस के आरोपी पूर्व पुलिसकर्मी सचिन वाजे ने जेल के अंदर किताबें लिखी हैं. स्पेशल कोर्ट के सामने दाखिल याचिका के जरिए ये जानकारी सामने आई है. सचिन वाजे ने दायर याचिका में अपने बचाव की तैयारी के लिए और किताब लिखने के लिए जेल में एक लैपटॉप रखने की अनुमति मांगी है. स्पेशल कोर्ट में दायर याचिका में वाजे ने कहा कि उसने मराठी और अंग्रेजी में किताबें लिखी हैं. उसने दावा किया कि 26/11 के मुंबई आतंकवादी हमलों पर उसकी लिखी किताब का इंग्लैंड के एक फेमस राइटर ने मराठी से अंग्रेजी में अनुवाद किया है.

सचिन वाजे ने अपनी याचिका में कहा कि जेल में रहने के दौरान उसने जो किताबें लिखी, उसे पब्लिश कराने पर विचार कर रहा है. उसने ये भी कहा कि अब वो आतंकवाद विरोधी और इससे संबद्ध कानूनों पर एक किताब लिखने की प्रक्रिया में भी है. 

न्यूज एजेंसी PTI के मुताबिक, सचिन वाजे ने याचिका में कहा कि आतंकवाद विरोधी और इससे संबद्ध कानूनों पर किताब के लिए 35,000 से अधिक पेज लिख चुका हूं. इस टॉपिक पर मैंने 20,000 से अधिक निर्णयों का संदर्भ दिया है. उसने कहा कि कंप्यूटर के बिना मेरे लिए टॉपिक से संबंधित डेटा तक पहुंचना, पढ़ना, विश्लेषण करना और उसकी जांच करना असंभव है.

कहा- कंप्यूटर के बिना रिसर्च करना बोझिल होगा

सचिन वाजे ने कहा कि जिस 20 हजार निर्णयों का जिक्र किया है, उसके डिजिटल कॉपीज तक पहुंचने और एमएस ऑफिस जैसे सॉफ्टवेयर के बिना रिसर्च नहीं कर पा रहा हूं. इन परिस्थितियों में ये जरूरी है कि मेरे पास एक कंप्यूटर होना चाहिए. हालांकि, जेल अधिकारियों ने जेल में सुरक्षा चिंताओं का हवाला देते हुए उसकी याचिका का विरोध किया.

जेल अधिकारियों की ओर से सचिन वाजे की याचिका के जवाब में कहा गया कि आवेदक ने पुलिस प्रशासन में एक अधिकारी के रूप में अपने कर्तव्यों का पालन किया है, लेकिन वर्तमान में उस पर बहुत गंभीर आरोप है. जेल अधिकारियों ने कहा कि अगर उसे कंप्यूटर रखने की इजाजत दी गई तो अन्य आरोपी भी ऐसे अनुरोध कर सकते हैं.

जेल अधिकारी बोले- कंप्यूटर के दुरुपयोग की अधिक संभावना

जेल अधिकारियों ने कोर्ट को बताया कि राष्ट्र विरोधी गतिविधियों और प्रशासन विरोधी साजिश के लिए इसका (कंप्यूटर) दुरुपयोग किए जाने की बहुत अधिक संभावना है. किताब लिखने की उसकी योजना पर जेल प्रशासन ने कहा कि राज्य सरकार की पूर्व अनुमति लेना जरूरी होगा, अन्यथा जेल अधिकारी मुसीबत में पड़ सकते हैं.

जेल अधिकारियों ने प्रवीण महाजन का उदाहरण दिया, जिन्हें उनके भाई और राजनीतिक नेता प्रमोद महाजन की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. इसमें कहा गया है कि प्रवीण महाजन को आर्थर रोड जेल में रखा गया था और जेल में उनकी लिखी किताब के बाद राज्य में एक बड़ा राजनीतिक तूफान आ गया था. जेल अधिकारियों ने कहा कि इन सभी कारकों और जेल सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए वाजे की याचिका को अनुमति नहीं दी जानी चाहिए. अब मामले की अगली सुनवाई 28 फरवरी को होगी. 

25 फरवरी, 2021 को रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के पास विस्फोटकों से भरी एक एसयूवी मिली थी. एसयूवी कारोबारी मनसुख हिरेन के नाम पर रजिस्टर्ड थी. रिपोर्ट्स के मुताबिक, मनसुख हिरेन ने एसयूपी के चोरी होने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी और कहा था जब उसमें विस्फोटक मिला था, उससे पहले वो एसयूपी के चोरी होनी की रिपोर्ट दर्ज करा चुके थे. हालांकि 5 मार्च, 2021 को मनसुख हिरेन ठाणे में मृत पाए गए थे. मामले में जांच पड़ताल के बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने सचिन वाजे को गिरफ्तार किया था. फिलहाल, वाजे नवी मुंबई की तालोजा जेल में न्यायिक हिरासत में है.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *