डॉ भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को लेकर नया बखेड़ा खड़ा हो गया

डॉ भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को लेकर नया बखेड़ा खड़ा हो गया

रिपोर्टर। रन्धा सिंह

चन्दौली। पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर- पूर्व मध्य रेलवे हाजीपुर के पंडित दीनदयाल उपाध्याय मंडल अंतर्गत रेल परिसर में लगाए गए बाबा साहब डॉ भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को लेकर नया बखेड़ा खड़ा हो गया है। मामला रेलवे स्थापना नियमावली से जुड़ा है जहां रेल परिसर में किसी महापुरुष की प्रतिमा स्थापित नहीं की जा सकती।ऐसे में तत्कालीन महाप्रबंधक व तत्कालीन मंडल रेल प्रबंधक की मौजूदगी में डॉ भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा रेल परिसर में स्थापित कर दी गई।

हालांकि जब प्रतिमा स्थापित की की जा रही थी उस वक्त भी उक्त नियमावली को लेकर सवाल खड़े हुए थे। लेकिन किन परिस्थितियों में महाप्रबंधक ने प्रतिमा स्थापित कराई यह यक्ष प्रश्न बन के रह गया था। रेलवे से मांगी गई जानकारी के अनुसार डॉ भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को स्थापित करने के लिए रेलवे से कोई परमिशन नहीं दिया गया है। ऐसे में बिना रेलवे के परमिशन से बाबा साहब की प्रतिमा का स्थापित होना कहीं ना कहीं अन्य महापुरुषों के साथ रेलवे का उपेक्षापूर्ण रवैया बताया जा रहा है।आपको बता दें कि अभी हाल में ही मंडल रेल प्रबंधक के कार्यालय के ठीक सामने गौतम बुद्ध की प्रतिमा स्थापित की गई है।

जो रेल परिसर अंतर्गत है। जबकि डीडीयू के सेंट्रल कॉलोनी स्थित लाल बहादुर शास्त्री जन्मस्थली पर उनकी प्रतिमा को चोरी-छिपे लगाया गया था। जिसमें रेलवे ने अज्ञात लोगों के विरुद्ध मुकदमा भी दर्ज कराया था। ऐसे में रेलवे का दोहरा मापदंड कहीं ना कहीं किसी महापुरुष को सम्मान दे रहा है तो किसी की उपेक्षा भी कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *